…तो क्या ममता बनर्जी बन सकती हैं भारत की अगली प्रधानमंत्री ?

भारत में लोकतांत्रिक व्यवस्था अपनाई गई है. इस व्यवस्था के अंदर जनता के राज को सर्वोपरी माना गया है, जिसके चलते कोई भी चुनाव लड़ सकता है. ऐसे में अब 2019 में भारत में लोकसभा के चुनाव होने वाले हैं जिसको लेकर राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने तरीके से जोड़तोड़ का काम कर रही है. इस में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का नाम भी है जो विपक्ष के साथ गठबंधन तैयार कर 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारियां कर रही हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि अगर विपक्ष का ये जोड़ तोड़ करने में ममता बनर्जी सफल हो गईं तो क्या प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठ पाएंगी.. ? आइए जानते हैं…

भारत में प्रधानमंत्री की नियुक्ति राष्ट्रपति करता है. इस पद के लिए राष्ट्रपति को लोकसभा में बहुमत प्राप्त दल के नेता का ही चयन करना होता है. अगर बहुमत वाला दल न हो तो भी यदि बहुमत का विश्वास प्राप्त करने की स्थिति में हो तो भी उसे प्रधानमंत्री चुना जा सकता है, मगर उसे निर्धारित समय पर विश्वासमत हासिल करना होता है. प्रधानमंत्री पद के लिए लोकसभा या राज्यसभा की सदस्यता होनी चाहिए और उनके पास लोकसभा में बहुमत का समर्थन होना चाहिए. यदि नियुक्ति के समय पात्र, भारतीय संसद के दो सदनों में से किसी भी सदन का सदस्य नहीं होता है तो नियुक्ति के 6 महीनों के अंदर ही उन्हें संसद की सदस्यता प्राप्त करना अनिवार्य है अन्यथा उनका प्रधानमंत्रित्व खारिज हो जाएगा.

मोटापा कम करने के लिए काफी असरदार साबित होंगे ये 7 एक्सरसाइज

प्रधानमंत्री को लोकसभा के निर्वाचित सदस्यों के जरिए चुना जाता है. लोकसभा में कुल 545 सीटें यानि की लोकसभा में 545 तक सदस्य निर्वाचित हो सकते हैं. इसके बाद अगर प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार को 50 फीसदी से अधिक समर्थन मिलता है तो वह भारत का प्रधानमंत्री बन जाता हैं. यानि की उम्मीदवार को कम से कम 272 या उससे एक ज्यादा सदस्यों का समर्थन हासिल होना चाहिए.

वहीं तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए विपक्ष की ओर से प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी अगर बनाया जाता है तो उनको भी इसके लिए कम से कम 272 सांसदों का समर्थन हासिल होना चाहिए. हालांकि एक राज्य का प्रतिनिधित्व करने वाली ममता के लि 2019 में 272 सांसदों का समर्थन जुटा पाना काफी मुश्किल नजर आता है. लेकिन राजनीति में कभी भी करवट बदल सकती है, इसलिए किसी भी संभावना से इनकार भी नहीं किया जा सकता है.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर बताएं कि कोलकाता भारत के किस राज्य में स्थित है.

(Visited 40 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :