क्या चल रहा है ?
गूगल पर ये बात बिल्कुल भी न करें सर्च, हो सकती है जेल! | ट्रंप भी खड़े होकर ताली बजाने लगे - आखिर मोदी ने ऐसा क्या बोला - Howdy Modi | टूरिज्म के लिहाज से बिहार का गया क्यों बन चुका है इतना खास? | घर बैठकर आसानी से कैसे बुक करें फ्लाइट टिकट?... | घर बैठकर ऑनलाइन कैसे बुक करें रेल टिकट? | जानिए 2019 Honda Activa 125 कैसी है? | BCA-MCA करने से क्या फायदा है? | कुछ लोग बाएं हाथ का इस्तेमाल क्यों करते हैं? | क्या है परिवहन से जुड़ी हाइपरलूप तकनीक... | बॉलीवुड को मिली दूसरी लता मंगेशकर, गरीबी में कुछ ऐसी थी रानू मंडल की जिंदगी | क्या है 5G तकनीक? कैसे करती है काम? | सिर्फ 5 लाख रुपये से CCD के मालिक सिद्धार्थ ने कैसे खड़ा किया अरबों का कारोबार? | पाकिस्तानी दुश्मन के हाथ की घड़ी का वक्त भी देख लेगा भारत का ये सैटेलाइट | अनुच्छेद 370: अमित शाह ने इस बड़े कारण से लद्दाख को कश्मीर से अलग किया? | प्रधानमंत्री 15 अगस्त को लाल किले पर ही क्यों फहराते हैं तिरंगा? | भारत को 15 अगस्त 1947 की रात 12 बजे ही आजादी क्यों मिली? | पाकिस्तान 15 अगस्त को आजाद हुआ लेकिन 14 अगस्त का क्यों मनाता है स्वतंत्रता दिवस? | बिहार के रवीश कुमार ने नरेंद्र मोदी की बोलती की बंद! मिला रेमन मैग्सेसे अवार्ड | चांद पर एलियन का पता लगाएगा भारत का चंद्रयान-2? | चंद्रयान-2: अगर भारत को चांद पर मिली ये चीज तो दुनिया पर करेगा राज |

आखिर ‘शेर’ को ही जंगल का राजा क्यों कहा जाता है?

शेर को ही जंगल का राजा क्यों कहा जाता है? हम इन्हें जंगल का राजा तो कहते है, पर हैरानी वाली बात यह है कि शेर मैदानी इलाके में रहते है। कहने का मतलब कि शेर झाड़ियों, लंबी घास के विशाल मैदानों में, सवाना में और चट्टानी पहाड़ियों पर रहते हैं। पर वो बड़े पेड़ वाले जंगलों में नहीं रहते। अगर जंगल शेरों का मूल निवास स्थान ही नहीं तो वो भला जंगल के राजा कैसे हुए? ये सवाल भी आपके दिमाग में आ सकता है। लेकिन शेर छुपकर नहीं खुले मैदान में शिकार करते है। ये निडरता वाली बात है। छुपकर तो कई जानवर घात लगाते है, पर शेर ऐसा नहीं करता। ना ही शेर किसी का बचा शिकार खाता है।

दोस्तों, क्या आपने कभी इस बारे में सोचा है कि आखिर LION यानि शेर को ही जंगल का राजा क्यों माना जाता है? तो चलिए क्यों ना इस मुद्दे पर ही जानकारी ली जाए। जंगल के राजा की बात उठी है, तो सबसे पहले शेर की विशेषताओं पर एक नज़र डाल लेते है।

  • एक वयस्क सिंह का weight 200 से 250 किलोग्राम तक होता है।
  • शेर 81 प्रति घंटा की रफ्तार से दौड़ सकता है। 
  • शेरों की अपनी –अपनी सीमाएं होती है। एक शेर का इलाका 260 वर्ग किमी (100 वर्ग मील) तक फैला हो सकता है।
  • जब शेर दहाड़ता है तब उसकी आवाज़ उस इलाके से 8 km दूर खड़ा व्यक्ति महसूस कर सकता है, यानि वो उसकी आवाज़ को सुन सकता है।
  • दिन के मुक़ाबले रात के समय शेर की देखने की शक्ति ज्यादा होती है।
  • शेरों की उम्र का अंदाज़ उनके बालों यानि अयाल के रंग से पता चलता है। अगर अयाल का रंग गहरा भूरा है, तो वो झुंड में ज्यादा वयस्क है। ये बाल ही लड़ाई के दौरान शेर की गर्दन को चोटिल होने से बचाते है।      

अब शेर से जुड़े दूसरे तथ्यों की ओर बढ़ते है और जानते है कि शेर को ही जंगल का राजा क्यों कहा जाता है? हम इन्हें जंगल का राजा तो कहते है, पर हैरानी वाली बात यह है कि शेर मैदानी इलाके में रहते है। कहने का मतलब कि शेर झाड़ियों, लंबी घास के विशाल मैदानों में, सवाना में और चट्टानी पहाड़ियों पर रहते हैं। पर वो बड़े पेड़ वाले जंगलों  में नहीं रहते। अगर जंगल शेरों का मूल निवास स्थान ही नहीं तो वो भला जंगल के राजा कैसे हुए? ये सवाल भी आपके दिमाग में आ सकता है। लेकिन शेर छुपकर नहीं खुले मैदान में शिकार करते है। ये निडरता वाली बात है। छुपकर तो कई जानवर घात लगाते है, पर शेर ऐसा नहीं करता। ना ही शेर किसी का बचा शिकार खाता है।

आपने कभी न कभी Discovery channel या Animal planet जैसे चैनल पर जंगल की दुनिया देखी होगी। जहां देखा होगा कि कैसे कुछ जानवर जैसे कि हायना, जंगली कुत्ते, चीता और तेंदुए दूसरों के शिकार को चुराकर खा लेते है। पर शेर ऐसा नहीं करता। शिकार के मामले में शेर अपने से बड़े size के जानवरों को भी मार देता है। जानवरों के मांस से मिलने वाली नमी के कारण वो बिना पानी के 4-5 दिन भी निकाल सकते है। इस तरीके से उनका survival आसान हो जाता है, वरना Animal kingdom में जीवन इतना आसान नहीं।

यहाँ हर कदम पर खतरा है, लेकिन शेर से सब डरकर रहते है। शेर का अस्तित्व ही कुछ ऐसा है कि मात्र उसके दहाड़ने से कोई भी डर जाए। शेर को सामने देख हर किसिकों सिर्फ मौत नज़र आती है। उसकी शक्ति के आगे किसी दूसरे जानवर का खड़ा रह पाना आसान नहीं। शेर के हाव-भाव ही डर पैदा करने के लिए काफी है। शेर का attitude ही उसे सबसे अलग बनाता है। वरना आकार, लंबाई, चौड़ाई और वज़न के हिसाब से शेर कोई बहुत विशाल नहीं है। उसके मुक़ाबले कई दूसरे जानवर आकार, लंबाई, चौड़ाई में विशाल है, पर फिर भी उन्हें राजा नहीं कहा जाता। तो दोस्तों, यह वोही कुछ गुण है जिसके कारण शेर को जंगल के राजा का खिताब मिला है। लेकिन आज यह विलुप्तप्राय प्रजातियों की सूची में शामिल हो चुके है।

 

**********