2019 के चुनाव में किसकी होगी जीत? ये मुद्दे करेंगे निर्धारित

2019 लोक सभा चुनाव को अब ज्यादा समय नहीं बचा है ऐसे में सभी पर्टियों ने अपनी कमर कस ली हैं. ये तो साफ है कि इस बार का चुनाव मोदी बनाम राहुल होने वाला है. साथ ही इस बार के मुद्दे भी काफी अलग होने वाले हैं. ऐसे में वोटर भी काफी सोच समझकर अपना वजीर-ए-आजम चुनेंगे. दोनों ही पार्टियां फिलहाल रण में उतरने के लिए काफी कॉन्फीडेंट दिखाई दे रही हैं. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल ये हैं कि 2019 लोक सभा चुनावों में बाजी मोदी की होगी या फिर राहुल गांधी की? चुनावों के लिए माहौल तो काफी पहले से ही बनाना शुरू कर दिया गया था लेकिन जैसे जैसे चुनाव करीब आते जा रहे हैं कोई भी पार्टी दूसरी पार्टी पर हमला बोलने का मौका अपने हाथ से जाने नहीं देती. वो चाहे पीएम मोदी के विदेश दौरे हों या फिर राहुल गांधी का विदेश, सोमनाथ या फिर केदारनाथ के दर्शन करने के लिए जाना. हर चीज को चुनावी चश्मे से देखा जा रहा है. खैर, यहां जानिए किन मुद्दों के सहारे इस बार पार्टियां बाजी मारने में कामयाब हो सकती हैं.

किसान

पिछले दिनों विरोध प्रदर्शन करने दिल्ली आए किसानों को यहां घुसने ही नहीं दिया गया और उल्टा पानी की बौछार समेत कई और चीजों से उन्हें रोकने की कोशिश की गई तो ये एक काफी बड़ा मुद्दा बना गया था. जिसके करण विपक्ष ने मोदी सरकार को घेरा था. ऐसे में इस चुनावी रण में जो किसान को लुभा पाएगा बाजी काफी हद तक उसी के पाले में हो सकती है. किसानों की मांग मानने से लेकर कर्ज माफ करने से लेकर कुछ योजनाओं की घोषणा करने तक पार्टियों को काफी मेहनत करती पड़ेगी.

इन टिप्स के सहारे एक भी चूहा आपके घर में कदम भी नहीं रखेगा

राम मंदिर

अयोध्या की राम जन्म भूमि पर राम मंदिर इन दिनों का सबसे ज्यादा जलजलाता मुद्दा है. इसी राम मंदिर के सहारा 2014 में मोदी ने भारी मतों से चुनाव जीता था. लेकिन 2019 लोक सभा चुनाव आ गया है और मंदिर का कोई ठिकाना नहीं है. ऐसे में इस बार राहुल गांधी की पार्टी भी राम मंदिर पर काफी एक्टिव दिखाई दे रही है. राम मंदिर पर मोदी सरकार का रुख देखने पर जनता उनसे काफी खफा भी दिखाई दे रही है. ऐसे में इस बार मंदिर का मुद्दा लोक सभा चुनावों में पार्टी की जीत में काफी अहम योगदान करने वाला है.

रोजगार

2014 की तरह 2019 में भी रोजगार का मुद्दा चुनावी बाजी के लिए बेहद अहम है. देश का युवा जो इस बार पहली बार वोट करेगा उसके लिए सबसे बड़ा मुद्दा रोजगार ही होगा. रोजगार का सपना लिए जहां काफी सारे युवा इस बार मतदान करने वाले हैं ऐसे मे सभी पार्टियों को जरूरत है चुनाव जीतने के लिए इन युवाओं को रोजगार को मुद्दा बनाकर लुभा सकें.

गाय और लींचिंग

2014 के बाद से लींचिंग के जितने मामले सामने आए हैं उतने अभी तक किसी भी सरकार के कार्यकाल में देखने को नहीं मिले. सबसे ज्यादा मोब लींचिंग के मामले गाय को लेकर सामने आए हैं. ऐसे में काफी समय से इसके खिलाफ कानून लाने की मांग की जा रही है. 2019 लोक सभा चुनावों में जनता के लिए ये भी काफी अहम मुद्दा है. इसे लेकर मोदी सरकार को काफी ट्रोल भी किया जाता है.

विकास

पिछली बार की तरह विकास का मुद्दा इस बार भी सत्ता में आने के लिए पार्टियों के लिए काफी अहम है. चुनाव प्रचार प्रसार के दौरान विकास के मुद्दे पर बात कर पार्टी अपने वोटरों को लुभा सकती हैं.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि राहुल गांधी किस राजनीतिक पार्टी के अध्यक्ष है?

(Visited 31 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :