अगर 2019 में ममता बनर्जी प्रधानमंत्री बनीं तो ऐसी हो जाएगी देश की सूरत !

2019 के चुनावों का बिगुल बज चुका है. ऐसे में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का नाम भी प्रधानमंत्री पद के लिए सामने आ रहा है. इंदिरा गांधी के बाद किसी महिला का नाम पीएम पद के सबसे सटीक माना जा रहा है तो वो हैं ममता बनर्जी. ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि अगर ममता बनर्जी देश की पीएम बनाई जाती है तो देश की सूरत कैसी हो सकती है.

सेक्युलर छवि
ममता बनर्जी का नाम देश के सेकुलर नेताओ में गिना जाता है. धर्म की राजनीति करने वालों में ममता का नाम बेहद कम सामने आता है. देश में आज की राजनीति पर नजर डाले तो हिंदू और हिंदुत्व के नाम पर राजनीति काफी गर्म हो चली है. पश्चिम बंगाल में हिंदू और मुस्लिम दोनों ही धर्म हैं लेकिन उत्तर प्रदेश और बिहार, जहां बीजेपी की सरकार है, के मुकाबले पश्चिम बंगाल में बेहद कम संप्रदायिक दंगे देखने को मिलते हैं. ऐसे में साफ है कि अगर वो पीएम बनकर देश की कमान संभालेंगी तो हालात पहले से कुछ बेतहर होंगे.

अधिकारों का सम्मान
बजाय किसी धर्म के ममता बनर्जी नागरिको के अधिकारों का सम्मान करती हैं. बीजेपी की जान आएसएस में बसती है जिसके लिए हिंदुत्व सर्वोपरि है. बीजेपी के राजनैतिक परिपेक्ष की बात करें तो इस पार्टी के लिए सबसे पहले हिंदुओं की भावनाएं और बाद में मुस्लिम और ईसाइ समाज आता है. वहीं ममता के लिए किसी भी धर्म से ऊपर है नागरिकों के अधिकार.

…तो क्या ममता बनर्जी बन सकती हैं भारत की अगली प्रधानमंत्री ?

देशभक्ति पर गुस्सा
भारतीय जनता पार्टी के आने से देशभक्त नाम की एक अनचाही बहन अहम मुद्दा बन गई है. जिसके कारण देश का युवा सोशल मीडिया और देश के कई इलाकों में एक कैंपेन सा चलाने लगा है. ऐसे में ममता बनर्जी के राज्य पर नजर डाले तो ये देखने को नहीं मिलता है. बल्कि ममता शासित राज्य से सबसे ज्यादा युवा देश की रक्षा के लिए आर्मी में दाखिल होते हैं. यदि पीएम पद पर ममता आती हैं तो कथित देशभक्ति की बहस देशरक्षा से खत्म होती दिखाई दे सकती है.

समाजिक मुद्दे
इन दिनों देश में सबसे गर्म मुद्दें है लींचिंग और गोरक्षा. कई बार तो कथित गो रक्षक ही बेवजह गाय के नाम पर लींचिंग करते हैं. पश्चिम बंगाल में हिंदू और मुस्लमान दोनों ही धर्म हैं. राज्य में मीट खाने का एक विशेष हिस्सा है, बावजूद इसके लींचिंग और कथित गोरक्षा के मामले वहां से बेहद कम सुनने को मिलते हैं. बड़ी तादाद में हिंदुओं के होने के बाद भी वहीं मीट बैन जैसा मुद्दा देखने को नहीं मिला है.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर बताएं कि ममता बनर्जी की शादी हो चुकी है या नहीं…?

(Visited 108 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :