शरीर के अंदर होता है ये सब कुछ, जानकर कोई भी रह जाएगा हैरान

इंसान का शरीर जटिलता से भरा है. शरीर से जुड़े कई दिलचस्प तथ्य अभी तक सामने आ चुके हैं और कई नए तथ्यों का खुलासा भी भविष्य में देखने को मिल सकता है. हम ये तो जानते हैं कि हमारे शरीर की बाहरी सरंचना में क्या-क्या होता है लेकिन हम पूरी तरह से इस बात को नहीं जान पाते हैं कि हमारे शरीर के अंदर क्या-क्या प्रक्रियाएं हो रही है. तो आइए दोस्तों आज खुद के अंदर झांक के जान ही लिया जाए उन रोचक तथ्यों के बारे में जो रोजाना और लगातार हमारे शरीर में होती रहती है…
दिल
इंसानी दिल काफी शक्तिशाली होता है, यह बहुत ही तेज दबाव से ब्‍लड का पंप करता रहता है. यह इतनी तेजी से ब्‍लड को पंप करता है कि अगर दिल को शरीर के बाहर ब्‍लड करना करना पड़े तो यह ब्‍लड को 30 मीटर ऊपर तक उछल सकता है. 24 घंटों में हमारा दिल करीब 1 लाख बार धड़कता है, जो पूरी जिंदगी में करीब 30 करोड़ का आंकड़ा पार करते हुए 400 मिलियन लीटर खून पंप कर शरीर को गतिमान बनाए रखता है.
दिमाग
जब हमारा दिमाग किसी बात को याद करने की कोशिश करता है तो कई बातें अपने आप ही हमारे दिमाग में आ जाती है. दरअसल, ये सब बातें वही होती है जो हमसे जोड़ी हुई होती है या कोई घटना हमारे साथ घट चुकी होती है. तभी कई बार किसी बात को याद करने के लिए दिमाग पर जोर डालने की बात भी कही जाती है. वहीं हर रोज हमारे दिमाग में सैंकड़ों बातें घूमती रहती है.
नाक
नाक सूंघने के काम आती है. लेकिन क्‍या आप नाक से जुड़े इस सच को जानते है कि आप की नाक लगभग पचास हजार किस्म की सुगंध को सूंघ सकती है. शायद आप इस तथ्य को पहले नहीं जानते होंगे. इसके साथ ही इंसान की नाक हर वक्त किसी न किसी गंध को सूंघने का काम करती रहती है.
लार
इंसान के मुंह में रोज लार बनती रहती है. मुंह में रोजाना करीब 1 लीटर लार का निर्माण होता है और पूरे जिंदगी में लगभग 10 हजार गैलन लार बनती है.
प्यास
पानी शरीर के लिए बहुत जरूरी है. यदि शरीर में 1 फीसदी पानी की कमी भी हो तो हम प्यास महसूस करने लगते हैं. कोई भी इंसान बिना खाए कई महीनों तक रह सकता है पर बिना पानी पिए कुछ दिन भी नहीं रह सकता है. एक अनुमान के मुताबिक हम अपने पूरे जीवन में करीब 75000 लीटर पानी पी जाते हैं.
खून
जब तक कोई इंसान जिंदा है तब तक शरीर में खून का प्रवाह हमेशा चलता रहता है. वहीं जिन वाहिकाओं से रक्त बहता है अगर एक औसतन मनुष्य की उन रक्त-वाहिका को जोड़ दिया जाए तो 96 हजार किलोमीटर लम्बी चेन बनाई जा सकती है. जिससे धरती का ढाई बार चक्कर लगाया जा सकता है.
मस्तिष्‍क
इंसान जब जाग रहा होता है तब उसका मस्तिष्‍क 10 से 23 वॉट तक बिजली ऊर्जा को प्रवाहित करता है, जो एक बल्ब को भी चलाने के लिए काफी है. मानव के मस्तिष्‍क में दर्द की कोई भी नस नहीं होती इसलिए वह कोई दर्द नहीं महसूस नही करता.
पेट
पेट में जो अम्ल होता है वो जिंक को जलाने के लिए पर्याप्त होता है. लेकिन इससे पेट को नुकसान नहीं होता क्योंकि पेट की भित्तियां निरंतर खुद नवीनीकृत हो जाती है.
दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि शरीर के किस अंग के जरिए सुन सकते हैं.

(Visited 87 times, 1 visits today)

आपके लिए :