अगर आपका शरीर ऐसा संकेत दे तो संभल जाइए, वरना जान पर बात आ सकती है

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हम इतने बिजी हो चुके हैं कि दूसरों का ध्यान रखना तो दूर हम अपना ध्यान भी ठीक से नहीं रख पाते हैं. ऐसे में नुकसान हमें खुद ही झेलना पड़ता है. हम अपना खुद ही ध्यान नहीं रखते हैं और दिक्कते हमारे शरीर को झेलनी पड़ती है. ऐसे में धीरे-धीरे हमारा शरीर काफी कमजोर और बेजान नजर आने लगता है. चेहरे की चमक भी कहीं गायब हो जाती है. अगर जल्द ही अपने शरीर पर ध्यान नहीं दिया जाए तो उसका बहुत बड़ा खामियाजा भी भुगतना पड़ सकता है. ऐसे में आइए जानते हैं उन सकेंतो के बारे में जो बताते हैं कि हमारे शरीर को थोड़ी मदद की जरूरत है…

भूख
अगर अचानक से आपकी भूख में बदलाव होता है तो यह आपके शरीर के लिए अच्छा संकेत नहीं है. अचानक से भूख ज्यादा लग जाना और अचानक से भूख कम दोनों ही बेहद खतरनाक स्थिति है. यह तब होता है जब फिजिकली और मैंटली तनाव की स्थिति में होते हैं. ऐसी स्थिति से बचने के लिए अपने खान पान को ध्यान में रखकर भूख को सामान्य बनाए रखने में मदद की जा सकती है.

मूड
अगर आपका मूड लगातार बदल रहा है तो ये भी खतरे की घंटी है. अगर आप एक पल में गुस्सा, अगले ही पल उदासी और फिर अगले दिन मस्ती में भर जाते हैं तो यह भी एक संकेत है कि आप दिमागी तौर पर सही नहीं है. ऐसे में आपको चाहिए कि काम से थोड़ा रेस्ट लें और कहीं घुमने जाया जाए. जिसके कारण आपके शरीर को नई ताजगी मिलेगी और थोड़ी राहत भी.

लड़के के ‘लिंग’ में घुस गई जिंदा मछली और फिर जो हुआ वो हैरान करने वाला था…!

याददाश्त
अगर आपको किसी चीज को याद रखने में दिक्कत होने लगी या आप किसी चीज या बात को वापस रिमांइड नहीं कर पा रहे हैं तो संभल जाइए. आपके शरीर को ऐसी स्थिति में आपकी जरूरत है. यह संकेत है कि आपकी याददाश्त कमजोर हो रही है. इस हालात से निपटने के लिए आपको मेडिटेशन और योगा से काफी फायदा पहुंच सकता है.

मुंह सुखना
अगर आपका मुंह बार-बार सुख रहा है तो आपको एक बार इस पर ध्यान देना चाहिए. ऐसा तब होता है जब आप कुछ ज्यादा ही नर्वस रहते हैं. वहीं आप पानी संतुलित तौर पर नहीं पी रहे हैं उसके कारण भी मुंह सुखने लगता है. इससे निपटने के लिए जरूरी है कि जब भी आप नर्वस फील करें और आपका मुंह सुख जाए तो पानी पीएं. वहीं दिन में 3-4 लीटर पानी जरूर पीएं. इससे शरीर का संतुलन भी बना रहता है.

कान बजना
अक्सर लोगों के कान बजते रहते हैं. दरअसल, हम कुछ काम कर रहे हों या न भी कर रहे हों और तभी हमें कुछ सुनाई देता है, जो कि असल में बजा ही नहीं तो ये भी एक संकेत है जो बताता है कि हम खुद से ही दुर हो चुके हैं. इस स्थित को कान बजना कहते हैं और फोकस की कमी के कारण ऐसी सिच्यूएशन सामने आती है. इससे निपटने के लिए जरूरी है कि हम अपना ध्यान एक वक्त में एक ही जगह लगाकर रखें.

पसीना
अगर आप अच्छी खासी ऐसी के नीचे बैठे हों या काफी सर्दी होने के बावजूद भी आपको पसीना आ रहा है तो आपको संभलने की जरूरत है. अक्सर ऐसा तब होता है जब हम ज्यादा तनाव में होते हैं. इस स्थित से बचने के लिए हमें अपने तनाव से दूरी बनानी होगी.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर बताएं कि आपको खाने में सबसे ज्यादा कौनसी चीज पसंद है.

(Visited 136 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :