Video : 12 मर्दों ने मिलकर, 1 लड़की के प्राइवट पार्ट पर चोट पहुँचाया….रोंगटे खड़े कर देगा विडीओ !

मोरल पुलिसिंग का एक और घिनौना कृत्य : पूरा देश हुआ शर्मसार 

मोरल पुलिसिंग के नाम पर आजकल जो हो रहा है वो बहुत ही शर्मनाक है, असम में हाल ही में एक घटना हुयी जिसमे एक 22 साल की जवान लड़की को नशे में चूर 12 लडको ने बुरी तरह पीटा और शर्मसार कर दिया.

असम के गोलपारा जिले में एक 22 साल की लड़की अपने घर से मेडिकल सेंटर जा रही थी, उसके साथ उसका एक दोस्त भी था. तभी वहाँ से 12 आवारा लड़के भी गुजर रहे थे, उन्होंने जैसे ही उस लड़की को एक अनजान लड़के के साथ देखा उसे बुरी तरह पीटने लगे. सभी आवारा नशे में धुत लडको ने घेरा बनाकर उसे बीच में खड़ा कर दिया और उसे थप्पड़ और लातो से बुरी तरह मारना शुरू कर दिया. बताया जा रहा है की लड़के गोरा समूह के थे.

VIDEO : आखिर क्यों यह महिला सड़क पर कपड़े उतार कर नंगे बैठ गयी : सच्चाई जानकर दंग रह जाएँगे

बेबस लड़की बुरी तरह चिल्ला रही थी, दर्द के मारे रो रही थी और अपना बचाव करने की कोशिश कर रही थी, लेकिन वो अकेली और वो 12. किसी तरह बस वो इधर से उधर बचती रही लेकिन उन दरिंदो ने उसे मारना नहीं छोड़ा, उसे गिरा कर उसके पेट में लात तक मारी. उसके बाल पकड़ कर उसे बुरी तरह घसीटा, नोचा और उसके कपडे तक फाड़ दिए.

मारते वक़्त उसके दोस्त को भी बहुत बुरी तरह पीटा गया, हालाकि सारे लड़के उस लड़की को ज्यादा पीट रहे थे. उस लड़की को तब तक मारते रहे जब तक की वो बेहोश नहीं हो गयी. तमाशबीन बने हुए लोगो ने उनकी मदद नहीं की बल्कि विडियो बना रहे थे.

जानकारी के अनुसार उसकी शादी तय हो गयी थी और वो एक लड़के के साथ दिखाई दी, गोरा समूह के लड़को का कहना है की वो भाग रही थी इसलिए उसे पीटा गया. साथ में जो उसका दोस्त था वो एक मुसलमान था इसलिए उन्हें गुस्सा आया और उन्होंने ऐसी हरकत की.

कठुआ और उन्नाव मे बालात्कार की घटनाओ से दिग्गज खिलाड़ियो को आया गुस्सा, जानिए किसने क्या कहा?

पुलिस ने सभी 12 आरोपियों को जेल की सलाखों के पीछे धकेल दिया है. और उन पर मुकदमा दायर कर दिया गया है. एस पे अमिताव सिंघ का कहना है की ये मामला मोरल पुलिस का है, और इस पर इन्वेस्टिगेशन चल रहा है. 

इस शर्मनाक हरकत का विडियो वायरल हो रहा है.

हमारे देश में कोई भी सुरक्षित नहीं है, खासतौर पर महिलाए, उनके चरित्र का फैसला करने वाले मोरल पुलिस बनकर हर तरफ घूम रहे है और सरकार केवल तमाशा देख रही है. कुछ लोगो ने अपनी राय में ये भी कहा है की बेरोज़गारी इस तरह की घटना को ज्यादा बढ़ावा दे रही है. देश के नौजवान बेरोज़गारी की वजह से डिप्रेशन का शिकार हो रहे है और अपनी भड़ास निकालने के लिए ऐसी हरकते और जुर्म की तरफ बढ़ रहे है. 

कुछ भी हो, पुलिस को इन सब मामलो पर सख्त से सख्त कदम उठाने चाहिए और कानून को कड़ा करने की जरुरत है, वरना इस देश में महिलाओ का उत्पीड़न रोकना नामुमकिन हो जायेगा. किसी को भी ये हक नहीं है की वो इस तरह कानून का उल्लंग्घन करे और महिलाओ पर ज्यादती करे.

(Visited 658 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :