X

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की ये खास बातें काफी रोचक हैं...!

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की ये खास बातें काफी रोचक हैं...!

भारत रत्न, देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भारतीय राजनीति के अजातशत्रु कहे जाने वाले अटल बिहारी वाजपेयी पंचतत्व में विलीन हो गए. पूरे राजकीय सम्मान के साथ राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर उनका अंतिम संस्कार किया गया. देश की राजनीति के सबसे करिश्माई और लोकप्रिय चेहरों में से एक वाजपेयी ने 93 साल की उम्र में दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी AIIMS में अंतिम सांसें लीं. अटल बिहारी वाजपेयी एक ऐसे राजनेता थे जिन्हें सभी विरोधी दलों के सदस्यों का बराबर प्यार और सम्मान मिला. आइए जानते हैं ऐसी शख्सियत के बारे में कुछ अनजानी बातों के बारे में...

पिता के साथ की एलएलबी

अटल बिहारी वाजपेयी ने साल 1946, 1947 में कानपुर के डीएवी पीजी कॉलेज में एडमिशन लिया और यहां से टॉपर बनकर निकले. डीएवी से ही उन्होंने एलएलबी किया. सबसे खास बात यह रही कि अटल जी और उनके पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी जी ने एलएलबी की कक्षाएं एक साथ पढ़ी थीं. लॉ छात्र के रूप में पिता-पुत्र एक साथ एक सत्र के दौरान एक ही हॉस्टल के एक कमरे में रहे.

गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री

अटल बिहारी वाजपेयी ने 1957 में पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा और जीते भी. इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा. 1957 से 2009 के बीच लगातार अटलजी संसद के सदस्य रहे. अटल बिहारी वाजपेयी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार के पहले प्रधानमंत्री थे जिन्होने गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री के तौर पर अपना कार्यकाल पूरा किया. इस दौरान वह एनडीए में 24 दलों के गठबंधन लेकर चल रहे थे जिसमें 81 मंत्री थे.

क्या आप जानते हैं कि चीनी सफेद रंग की ही क्यों होती है…?

हिंदी में भाषण

अटल बिहारी वाजपेयी 1977 में जनता पार्टी की सरकार में विदेश मंत्री बनाए गए थे. उस समय उन्होंने संयुक्‍त राष्ट्र संघ के एक सत्र में हिंदी में अपना भाषण दिया था. इतना ही नहीं वो पहले भारतीय प्रधानमंत्री भी थे, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र में हिंदी में भाषण देने का फैसला किया.

कुदरत से लगाव

वाजपेयी को कुदरत से भी काफी लगाव था. उन्हें पहाड़ पर छुट्टी बिताना काफी अच्छा लगता. हिमाचल का मनाली उनकी पसंदीदा जगहों में शामिल था. अटल बिहारी वाजपेयी को मसूरी की शांत वादियों से भी बेहद लगाव था. साल में कम से कम दो बार वे मसूरी जरूर जाते थे.

नेहरू की भविष्यवाणी हुई सच

ऐसा कहा जाता है कि पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू भी एक बार अटल बिहारी वाजपेयी से कहा था कि वो एक दिन देश के प्रधानमंत्री जरूर बनेंगे. पंडित नेहरू की बात सच साबित हुई.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर बताएं कि वर्तमान में भारत के प्रधानमंत्री का नाम क्या है..? इस सवाल का सही जवाब देने वाले 10 लकी विजेताओं को मिल सकता है सरप्राइज गिफ्ट...
News 1
old

News 1

बड़ी खबर
old

बड़ी खबर