X

घर में एलपीजी सिलेंडर काम में लेते हो तो जल्दी से ये खबर जान लो, वरना बड़ा घाटा हो जाएगा

घर में एलपीजी सिलेंडर काम में लेते हो तो जल्दी से ये खबर जान लो, वरना बड़ा घाटा हो जाएगा
एलपीजी सिलेंडर का इस्तेमाल आज हर घर में खाना पकाने के लिए किया जाता है. अमीर से लेकर गरीब तबकों तक के लोगों ने आज पुराना चुल्हा छोड़ एलपीजी सिलेंडर को अपना लिया है. एलपीजी सिलेंडर की मांग और रोजमर्रा के इस्तेमाल की चीज होने के कारण सरकार के जरिए एलपीजी सिलेंडर पर सब्सिडी भी दी जाती है. इस सब्सिडी के जरिए लोगों को गैस सिलेंडर पर थोड़ी छूट मिल जाती है. मसलन सरकार को जितने दाम में एक गैस सिलेंडर मिलता है, सरकार जनता को वो गैस सिलेंडर करीब आधे दाम में मुहैया करवाती है और आधे दाम खुद वहन करती है. जो रकम सरकार खुद वहन करती है उसे ही सब्सिडी कहते हैं. वर्तमान में गैस सिलेंडर पर सब्सिडी लेने के लिए एक अलग नियम है. नियम ये है कि जब आप गैस सिलेंडर खरीदते हैं तो आपको सिलेंडर की मूल रकम चुकानी होती है. जिसके बाद सब्सिडी की रकम आपके बैंक खाते में आ जाती है. यानी की कोई सिलेंडर अगर 900 रुपए का है तो आपको पहले 900 रुपए ही चुकाने होंगे और बाद में सरकार के जरिए आधे रुपए यानी 450 रुपए आपके बैंक खाते में डालकर आपको सब्सिडी दे दी जाएगी. लेकिन इन दिनों सब्सिडी से जुड़ी एक खबर काफी वायरल हो चुकी हैं. इस खबर को जानकर आप भी हैरान रह सकते हैं. Jio ने फिर उड़ाई सबकी नींद, अब 90 दिनों के लिए फ्री में मिलेगी नई सर्विस दरअसल, एक खबर चल रही है कि सरकार अब आपके बैंक खाते में सीधे सब्सिडी की रकम नहीं डालेगी. ये सब्सिडी कंपनियों को दी जाएगी और ग्राहकों को पुराने तरीके से सस्ते सिलेंडर मिलेंगे. अभी लोग बाजार दर पर रसोई गैस सिलेंडर खरीदते हैं और सब्सिडी उनके बैंक अकाउंट में जाती है. लेकिन अब आपको सच जानना बेहद जरूरी है वरना आप भी गैस सिलेंडर की सब्सिडी को लेकर गुमराह हो सकते हैं. सच्चाई ये है कि एलपीजी सिलेंडर पर दी जाने वाली सब्सिडी की मौजूदा प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं किया जा रहा है. सरकार के जरिए भी ये बात साफ कर दी गई है. इसका सीधा मतलब है कि लोगों को सीधे उनके बैंक अकाउंट में सब्सिडी जानी जारी रहेगी. पेट्रोलियम मंत्रालय ने एक बयान जारी कर ये सफाई दी है. मंत्रालय ने कहा है कि अखबारों में लाभ अंतरण योजना में बदलाव के बारे में प्रकाशित रिपोर्ट तथ्यों पर आधारित नहीं हैं. ऐसे में अब भी सिलेंडर खरीदे जाने पर आपको पूरी रकम अदा करनी होगी और सब्सिडी की रकम बाद में आपके बैंक अकाउंट में डाल दी जाएगी. सरकार के जरिए एक साल में एक ग्राहक को 12 रसोई गैस सिलेंडर सब्सिडी के तहत दिए जाते हैं. इन सिलेंडर की सब्सिडी डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिए सीधे लोगों के बैंक खातों में पहुंचती है. वहीं अगर कोई ग्राहक एक साल में 12 रसोई गैस सिलेंडर का इस्तेमाल करता है तो उस ग्राहक को 12 सिलेंडर से ऊपर के एलपीजी सिलेंडर बाजार की दर पर खरीदना होगा. तो अगर आपके पास भी इस तरह का कोई मैसेज आया है कि एलपीजी पर सब्सिडी की व्यवस्था बदलने वाली है तो उस पर यकीन न करें. सब्सिडी आपके बैंक अकाउंट में पहले की तरह आती रहेगी. दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि आपका क्षेत्र कौनसा है और वहां एक रसोई गैस सिलेंडर का दाम कितना है?