बुलेट एंट होती है काफी खतरनाक, बन्दूक की गोली लगने से भी भयानक दर्द देती है ये चींटी

आपने काले रंग की छोटी-छोटी चींटियां तो जरूर देखी होंगी. जो घर के बरामदे, घर की दीवारों, पार्क और आस पास की सभी जगहों पर घूमती हुई दिखाई पड़ जाती हैं. कई बार ये इंसानों को काट भी लेतीं हैं. इनके काटने से ज्यादा दर्द नहीं होता. लेकिन आपको जानकार आश्चर्य होगा कि चींटी की एक प्रजाति ऐसी भी हैं जिसके काटने पर भयानक दर्द होता हैं. आइए जानते हैं ऐसी चींटी के बारे में…

चीटियों की एक प्रजाति में एक चींटी ऐसी भी है जिसके काटने पर होने वाले दर्द की तुलना बन्दूक से लगने वाली गोली से होने वाले दर्द से की जाती हैं. इसके काटने से कभी-कभी मौत भी हो जाती हैं. इसलिए इस चींटी को बुलेट चींटी या बुलेट एंट के नाम से भी जाना जाता है. इसकी खोज साल 1793 में की गयी. इस चींटी की लगभग 90 प्रजातियां खोजी जा चुकी हैं. ये ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, अमेरिका जैसे महाद्वीपों के वर्षा वनों में पाई जाती हैं.

इंसान झेलता है इतने भयानक दर्द, मौत का कारण भी बन सकती है यह असहनीय पीड़ा !

बुलेट चींटी सामान्य चींटी से कुछ बड़ी और भूरे, काले और लाल रंग की होती हैं. इसकी लम्बाई लगभग 2 सेंटीमीटर होती है और इसका भार 0.0015 ग्राम होता हैं. इनमें 1 से 3 मिलीमीटर का डंक पाया जाता हैं. पेट में जहर की थैली पाई जाती हैं. शिकार को काटते समय यह चींटी अपने डंक से पेट में मौजूद जहर को शिकार के खून में पहुंचा देती हैं. इसमें दो बड़ी संयुक्त आंखें पाई जाती है. जिससे ये 360 डिग्री कोण पर एक मीटर दूर तक देख सकती हैं.

इसके सिर पर दो एन्टीना भी होते हैं. इसके नुकीले दांत वाले जबड़े मुंह से बाहर निकले होते हैं. इसके पूरे शरीर पर रोमनुमा बाल होतें हैं. खतरा महसूस होने पर यह शिकार को दांतों और डंक दोनों से काटती हैं और लगातार कई बार काटती है. इसका जहर न्युरोटॉक्सिक प्रकार का होता हैं. वैज्ञानिकों के मुताबिक इसका काटना मधुमक्खी के डंक से होने वाले दर्द से 30 गुना अधिक तेज दर्द होता हैं.

हालांकि कई बार देखा गया है लोग जानबूझकर इस चींटी से खुद को कटवाते हैं. ब्राजील के जंगलों में पाए जाने वाले सैंटारे-मावे जनजाति के लोगों में एक परम्परा के तहत कम उम्र के लड़के को उनकी मर्दानगी साबित करने के लिए बुलेट चींटी से कटवाना पड़ता हैं. इस प्रक्रिया में कम उम्र के लड़को को विशेष प्रकार से बनाए हुए बुलेट चींटी युक्त दस्तानों में अपने हाथ डालने होते हैं. जब कोई लड़का दस्तानों में अपने हाथ डालता हैं तो उसको अपने हाथ इन दस्तानों में लगातार कई मिनटों तक डालकर रखना पड़ता हैं. दस्तानों में चीटियां लगातार काटती रहती हैं. जिससे असहनीय दर्द होता हैं. इस दौरान सफल होने पर उन्हें ईनाम दिया जाता है. इसमें कुछ लोगों की जान भी चली जाती है.

दोस्तों, नीचें कमेंट कर बताएं कि आपको किस जानवर से सबसे ज्यादा डर लगता है.

(Visited 34 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :