सिर्फ भारत में होती हैं ये अजीब चीजें, जानकर आप भी चौंक जाएंगे

दुनिया में कई हैरान करने वाली अजीब चीजें होती रहती हैं. ये अजीब चीजें दूसरे लोगों को हैरत में भी डाल देती है. लोग इन चीजों को बड़े ही अंचभे से देखा करते हैं. भारत में भी कई अनोखी चीजें हैं, जो कि दुनिया के किसी दूसरे कोने में नहीं होती है. भारत की इन अनोखी चीजों को देखकर विदेशी लोग कई बार चौंक भी जाते हैं. आइए जानते हैं भारत में होने वाली ऐसी अजीब चीजें जो विदेशों में मुश्किल से ही देखने को मिलेगी…

कांवड़िए

भारत में धर्म को काफी माना जाता है और धार्मिक मान्यताओं के कारण भारत देश में कई सारी परंपराएं निभाई जाती है. इन परंपराओं में से एक कांवडियों की परंपरा देखी जाती है. सावन के महीने में शिव भक्तों को बम बम भोले के नारे लगाते हुए, हाथ में कांवड़ लिए हुए सड़कों पर देखा जा सकता है. कंधे पर गंगाजल लेकर भगवान शिव के ज्योतिर्लिंगों पर चढ़ाने की परंपरा को कांवड़ यात्रा कहते हैं. विदेशों में ये यात्रा नहीं की जाती है.

अगर तैरना सीखना चाहते हैं तो इन नियमों को अच्छे से जान लें, वरना जान पर बात आ सकती है

सात फेरे

भारत में हिंदू शादियों में सात फेरे लेने की परंपरा है. शादी में लिए गए ये सात फेरे सात वचन और सात जन्मों तक का साथ निभाने के प्रतीक के तौर पर देखे जाते हैं. शादी में सात फेरे लेने का यह रिवाज ज्यादातर भारत में ही देखा जाता है.

त्योहार

साल के 365 दिनों में भारत में हर दिन त्योहार की तरह मनाया जाता है. भारत में पूरे साल दिवाली, होली, नवरात्र, रक्षाबंधन, मकर संक्राति, तीज जैसे सैकड़ों त्याहोर मनाए जाते हैं. विदेशों में कभी भी इतने त्योहार मनाते हुए नहीं देखे जाते हैं.

हवन पूजा

भारत में अक्सर किसी नई चीज की शुरुआत के लिए हवन किया जाता है. हिंदू मान्यता है कि हवन करने से नया काम काफी सरल तरीके से होता है और उसमें कामयाबी हासिल होती है. हालांकि विदेशों में हवन जैसी चीज देखने को नहीं मिलती है.

सिंदूर और मंगलसूत्र

भारत में हिंदू धर्म की महिलाएं शादी के बाद सुहागन होने की निशानी के तौर पर मांग में सिंदूर डालती है. सिंदूर का रंग लाल होगा है. इसके अलावा शादीशुदा महिलाएं गले में मंगलसूत्र भी डालती है. हिंदू मान्यताओं में सिंदूर और मंगलसूत्र उनके सुहागन होने का प्रतीक माना जाता है.

अस्थियां बहाना

भारत में हिंदूओं की तादाद ज्यादा है और हिंदू धर्म में किसी व्यक्ति की मृत्यू हो जाने के बाद उसकी अस्थियों को पवित्र नदी में प्रवाहित करने की मान्यता है. ऐसा माना जाता है कि मौत के बाद मृतक व्यक्ति की अस्थियों को गंगा में प्रवाहित करने से मरने वाली की आत्मा को शांति मिलती है.

ऋतुएं

भारत में 6 तरह की ऋतुएं यानी सीजन होते हैं. इन्हें वसंत ऋतु, ग्रीष्म ऋतु, वर्षा ऋतु, शरद ऋतु, हेमंत ऋतु और शिशिर ऋतु के नाम से जाना जाता है. वसंत ऋतु को अंग्रेजी में स्प्रिंग सीजन भी कहा जाता है. ये मौसम न तो ज्यादा गर्म और न ही ज्यादा ठंडा होता है. वहीं ग्रीष्म ऋतु को समर सीजन और वर्षा ऋतु को मानसून सीजन के नाम से भी पहचानते हैं. इसके साथ ही शरद ऋतु को ऑटम सीजन भी कहा जाता है. इस दौरान धीरे-धीरे गर्मी कम होने लगती है. इसके अलावा हेमंत ऋतु होती है जो कि शिशिर ऋतु या फिर ठण्ड के मौसम से पहले आती है. आखिर में शिशिर ऋतु आती है जिसे शीत ऋतु भी कहा जाता है. ये मौसम साल का सबसे ठंडा मौसम होता है.

दोस्तों कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि भारत की राजधानी का नाम क्या है.

(Visited 47 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :