क्या चल रहा है ?
कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया | इसरो की कमाई कैसे होती है? कहां से आता है करोड़ों रुपया ? | विदेशों में भी मोदी मैजिक, मोदी के नाम से चुनाव जीत रहे हैं विदेशी नेता! | अमित शाह के लाए नागरिकता कानून से मुसलमानों में खौफ! देश छोड़ने की लटकी तलवार! | गूगल पर ये बात बिल्कुल भी न करें सर्च, हो सकती है जेल! | ट्रंप भी खड़े होकर ताली बजाने लगे - आखिर मोदी ने ऐसा क्या बोला - Howdy Modi | टूरिज्म के लिहाज से बिहार का गया क्यों बन चुका है इतना खास? |

दशकों से दुनिया भर में फैले कुछ ऐसे भ्रम, जिनकी सच्चाई कुछ और ही है

दुनिया अजब-गजब चीजों व घटनाओं से भरी है। यहाँ आए दिन ही दुनिया के किसी न किसी कोने में कुछ न कुछ ऐसा घटित हो जाता है, जिसे भुलाया नहीं जा सकता। ये वो घटनाएँ होती है जो इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करवा लेती है। लेकिन किस बात में कितना दम है, ये कह पाना मुश्किल हो जाता है क्यूंकी कुछ घटनाएँ मात्र अफवाह के रूप में भी फैल जाती है, जो इसी प्रकार सदियों-सदियों चलती रहती है।

दुनिया अजब-गजब चीजों व घटनाओं से भरी है। यहाँ आए दिन ही दुनिया के किसी न किसी कोने में कुछ न कुछ ऐसा घटित हो जाता है, जिसे भुलाया नहीं जा सकता। ये वो घटनाएँ होती है जो इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करवा लेती है। लेकिन किस बात में कितना दम है, ये कह पाना मुश्किल हो जाता है क्यूंकी कुछ घटनाएँ मात्र अफवाह के रूप में भी फैल जाती है, जो इसी प्रकार सदियों-सदियों चलती रहती है।

तो दोस्तों, हम एक नज़र डालते है कुछ ऐसी घटनाओं पर जो दशकों से एक भ्रम के रूप में चली आ रही है, लेकिन उसके पीछे की कहानी कुछ और ही है। तो सबसे पहले शुरुवात करते है Adam-Eve की कहानी से। जिसके बारे में लगभग हर किसी ने सुना होगा। जोकि Eden नाम के एक garden में रहते थे। एक दिन Adam ने वहां लगे “knowledge tree” यानि ‘ज्ञान के पेड़ से सेब तोड़कर खा लिया। जिसके लिए ईश्वर ने उसे मना किया था। खैर अब विस्तार से इस कहानी की गहराई में नहीं जाएंगे। बल्कि इस कहानी पर चर्चा का मुद्दा सिर्फ इतना था कि Adam ने जो फल खाया था दरअसल वो “सेब” नहीं था। बाइबल में भी कहीं इसका जिक्र नहीं है। नियम तोड़ने के कारण गुस्सा होकर ईश्वर ने दोनों को उस Eden Garden से निकाल दिया था। ईसाई धर्म के अनुसार इस घटना को मानव का पतन यानि Fall Of Man कहा जाता है। वास्तविकता में Malus शब्द का अर्थ बुराई और सेब दोनों होता है। तो देखा आपने कैसे एक बात तब से लेकर आज तक चली आ रही है, जिसकी सच्चाई कुछ और है।

दूसरी कहानी और उससे जुड़ा भ्रम एक जनजाति द्वारा Manhattan को 24 डॉलर में बेचने से संबन्धित है। जबकि वास्तव में ऐसा नहीं हुआ था। कुछ लोगों के अनुसार ये समझौता 1000 डॉलर का था। पर समझौता Manhattan को बैचने नहीं बल्कि किराए पर देने के लिए हुआ था। इस पूरी कहानी में आजतक किसिकों ख़रीदने वाले के बारे में नहीं पता।

अब चलते है अगली खबर पर। जोकि जुड़ी है किसी व्यक्ति को लेकर लिखवाए जाने वाली missing report से। अक्सर किसी व्यक्ति के निर्धारित समय पर घर ना लौटने पर उसके परिवारजन घबरा जाते है। वो कुछ वक़्त तक रुककर उसके आने का इंतज़ार करते है। लेकिन चाहकर भी अगले 24 घंटे तक उसकी missing report नहीं लिखवा पाते। दरअसल, इस 24 घंटे की भ्रमित धारणा टीवी फिल्मों के माध्यम से हर तरफ फैल गई है। वास्तव में तो व्यक्ति के गुमशुदा होने के संदेह की बिनाह पर रिपोर्ट लिखवाई जा सकती है।   

इसके बाद अब बात करते है इंसान के शरीर से जुड़े एक भ्रम पर। ये भ्रम काफी समय से चलते आ रहा है कि मरने के बाद व्यक्ति के नाखून बड़ते है। लेकिन वास्तव में Optical Illusion के कारण ऐसा लगता है। इसके अलावा बहुत से लोग यही मानते होंगे कि एक सांड लाल रंग से प्रभावित होता हैं। पर ऐसा नहीं है क्यूंकी डाइक्रोमैट होने के कारण सांड लाल रंग को एक उजले रंग के रूप में नहीं देखता है। दरअसल, खेल के मैदान में वो सिर्फ मैटाडोर्स के द्वारा उकसाने पर भड़क के उसकी ओर भागता है। मैटाडोर्स के हाथ में उस वक़्त लाल रंग का एक बड़ा सा कपड़ा होता है। इसी कारण ये धारण लोगों के बीच आम हो चुकी है।

***********