क्या चल रहा है ?
घर पर क्रिस्पी फ्रेंच फ्राइज बनाने की सीक्रेट रेसिपी | अमित शाह को कौनसी खूबियां बाकी गृहमंत्रियों से अलग बनाती है? | भारतीय सेना के जवान भी इन कुत्तों को सलाम करते हैं...जानिए क्यों | कैसे बनता है खून? शरीर में कमी होने से कैसे बढ़ाएं खून की मात्रा? | बाप रे!! मोदी-शाह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाएंगे? | ओवैसी के बारे में क्या सोचते हैं हैदराबादी मुसलमान? | कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया |

इस तरह से राजनेता बयानों को करते हैं तोड़मरोड़ कर पेश

देश में हर तरफ सियासी बवाल और हलचल मची हुई है. नागरिकता संशोधन कानून 2019 और रेप जैसी घटनाओं को लेकर भारतीयों के बीच सरकार को लेकर काफी गुस्सा है. सरकार भी अभी सही और गलत के बीच असमंजस में पड़ी हुई हैं. सभी राज्यों से अलग-अलग तरह की सियासी प्रतिक्रिया और बयान आ रहे हैं. लेकिन सरकार को पता है  कि बयानों को अपने पक्ष में कैसे लिया जाता है. जी हां, दोस्तों आज हम कुछ ऐसे ही बयानों के बारे में बताएंगे जिनका राजनेताओं के जरिए इस्तेमाल करके सही को गलत और गलत को सही बनाया गया है. राजनेता कुछ बयानों को तोड़कर जनता के बीच गलत तरीके से पेश करते हैं, ऐसे में बयान के अर्थ का अनर्थ हो जाता है. चलिए जानते हैं ऐसे बयानों के बारे में...

दोस्तों उन्नाव और हैदराबाद रेप केस के बारे में तो आपने सुना होगा. दोनों ही मामलों में रेप पीड़िता को जिंदा जला दिया गया था. उसी वक्त कांग्रेस नेता राहुल गांधी एक जनसभा को संबोधित करते हुए बोले- 'नरेंद्र मोदी ने कहा था, मेक इन इंडिया, लेकिन अब आप जहां भी देखो रेप इन इंडिया ही नजर आता है.' इसी के साथ नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने आगे कहा, “मोदी जी ने कहा था, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, लेकिन यह नहीं बताया कि बेटे को किससे बचाना है.''

राहुल गांधी के इस बयान के बाद तो मानो भाजपा के तन-बदन में आग लग गयी हो. ऐसे में बाजपा की कद्दवार नेता और स्मृति ईरानी ने मोर्चा संभाला. अपनी राजनीति चमकाने के लिए उन्होंने राहुल गांधी को घेरने की पूरी तैयारी कर ली. राहुल ने रेप इन इंडिया बोलते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा था तो स्मृति ने उनके बयान को अधूरा पेश कर अर्थ का अनर्थ कर दिया. स्मृति ईरानी ने उनके बयान को इस तरह से पेश किया कि राहुल अपने बयान में लोगों को रेप करने के लिए उकसा रहे थे. साथ ही लड़कियों, बच्चियों और महिलाओं का रेप करने के लिए निमंत्रण दे रहे थे.

यह कोई पहला उदाहरण नहीं है जब अधूरे वाक्य का इस्तेमाल कर राजनेताओं ने अर्थ का अनर्थ कर दूसरी पार्टी को घेरा हो. इससे पहले भी भाजपा ने दिल्ली के मुखिया अरविंद केजरीवाल को अपने इस राजनीति के खेल में लपेटा था. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी नेतओं के यूपी-बिहार में अस्पताल व्यवस्था अच्छी है वाले बयान पर निशाना साधते हुए कहा था कि अगर यूपी और बिहार की स्वास्थ्य सेवाएं इतनी अच्छी हैं, तो यूपी और बिहार के लोगों को दिल्ली में इलाज कराने न आना पड़ता. इसकों भी भाजपा ने आधा-अधूरा पेश कर कहा कि अरविंद केजरीवाल ने यूपी और बिहार के लोगों को गरीब बताया है और दिल्ली में AIMMS में मुफ्त में इलाज कराने आने पर आपत्ति जताई है. जबकि उन्होंने अपने बयान में दोनों ही बाते नहीं कही थी.

दोस्तों यह कुछ ऐसे बयान थे, जो हमारे राजनेताओं द्वारा गलत तरीके से बताकर सही जानकारी न देने के लिए इस्तेमाल किए गए हैं. यह बयान कहीं छोटी मोटी जगह नहीं, बल्कि देश की सबसे बड़ी जगह संसद में बोले गए हैं. हमारे राजनेता कई बार बयानों का गलत मतलब निकालकर उसे देश की जनता के बीच रख देते हैं. जिससे सही को गलत और गलत को सही बनाए जाने की कोशिश की जाती है. दोस्तों, कमेंट कर जरूर बताएं कि राहुल गांधी किस पार्टी के नेता हैं.