क्या चल रहा है ?
घर पर क्रिस्पी फ्रेंच फ्राइज बनाने की सीक्रेट रेसिपी | अमित शाह को कौनसी खूबियां बाकी गृहमंत्रियों से अलग बनाती है? | भारतीय सेना के जवान भी इन कुत्तों को सलाम करते हैं...जानिए क्यों | कैसे बनता है खून? शरीर में कमी होने से कैसे बढ़ाएं खून की मात्रा? | बाप रे!! मोदी-शाह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाएंगे? | ओवैसी के बारे में क्या सोचते हैं हैदराबादी मुसलमान? | कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया |

जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश?

नागरिकता संशोधन बिल 2019 को लेकर असम से लेकर दिल्ली तक बवाल मचा हुआ है. जगह- जगह लोग प्रदर्शन कर रहे हैं. जामिया यूनिवर्सिटी में छात्रों के जरिए किए प्रदर्शन को लेकर काफी खबरे आईं है.

नागरिकता संशोधन बिल 2019 राज्यसभा में 11 दिसंबर को पास होकर कानून की शक्ल ले चुका है. इस कानून पर देश के कई हिस्सों में बवाल मचा हुआ है. इस दौरान दिल्ली की जामिया मिलिया इस्लामिया में छात्रों ने इस कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन करना शुरू किया. छात्रों के इस विरोध के कारण पुलिस को भी वहां तैनात किया गया. लेकिन यूनिवर्सिटी में इस प्रदर्शन ने रौद्र रूप अपना लिया. कथित तौर पर छात्रों ने प्रदर्शन करते हुए कुछ ऐसा किया कि पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा. लेकिन पुलिस को क्यों लाठिचार्ज करना पड़ा? आइए जानते हैं...

दोस्तों, नागरिकता संशोधन बिल 2019 को लेकर असम से लेकर दिल्ली तक बवाल मचा हुआ है. जगह- जगह लोग प्रदर्शन कर रहे हैं. जामिया यूनिवर्सिटी में छात्रों के जरिए किए प्रदर्शन को लेकर काफी खबरे आईं है. पुलिस ने छात्रों का प्रदर्शन रोकने के लिए लाठीचार्ज भी किया. साथ ही उन्हें वहां से हटाने के लिए जबरन कैंपस के अंदर घुस गई. दोस्तों, इस घटना के पीछे की कहानी कुछ यू हैं कि जामिया के छात्र कैंपस में नागरिकता कानून को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे.

पुलिस टीम ने छात्रों को हटाने के लिए बल का प्रयोग किया. पुलिस का इस मामले को लेकर कहना है कि कुछ छात्र वहां से भागकर कॉलेज कैंपस में घुस गए. कॉलेज के अन्य छात्रों के साथ मिलकर पुलिस पर दोबारा पथराव करने लगे. इस पथराव में पुलिस के कई जवान घायल हो गए. जवानों के घायल होने के बाद पुलिस टीम ने कैंपस में जबरन घुसकर छात्रों को रोकने और पकड़ने की कोशिश की.

इस दौरान कई छात्रों पर कैंपस में लाठीचार्ज की गई. छात्र जब भागकर कैंपस की बिल्डिंग के अंदर घुसे तो उन्हें वहां से निकालने के लिए आसूं गैस के गोलों का इस्तेमाल किया गया. पुलिस के मुताबिक उन्होंने एक्शन के बाद रिएक्शन दिया है. तो वहीं छात्रों के हिसाब से पुलिस ने उन्हें जबरन मारकर भगाने और विरोध प्रदर्शन रोकने की कोशिश की है. वहीं जामिया में हुई हिंसा के बाद देश के कई यूनिवर्सिटी के छात्र भी जामिया के समर्थन में आ गए हैं और पुलिस के जरिए की गई कार्रवाई का विरोध कर रहे हैं.

इन सब हालात को देखकर पता चलता है कि देश में छात्र स्वतंत्र रूप से किसी भी फैसले का विरोध कर सकते हैं लेकिन विरोध को रोकने के लिए पुलिस भी अपने तरीके पूरी तरह से आजमाती है. हालांकि देश के लिए ऐसी घटनाएं काफी दुखद है. किसी चीज का विरोध करना गलत नहीं है लेकिन विरोध करने का तरीका भी काफी हद तक मायने रखता है. हिंसा के चलते किसी भी देश का विकास नहीं हो सका है. ऐसे में यह हिंसक विरोध देश के लिए एक खतरे की घंटी से कम कुछ नहीं है.

इसके साथ देश भर में नागरिकता कानून पर हो रहे विरोध के बाद सरकार को भी इस पर सोचने की जरूरत है. ताकी इस विरोध प्रदर्शन को शांत किया जा सके और हिंसा को रोका जा सके. दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि जामिया मिलिया इस्लामिया कौनसे शहर में है.