पेट्रोल-डीज़ल – आसमान छुए दाम और जमीन चाटे आम

“फिर, फिर, फिर महँगा हुआ पेट्रोल डीजल “

हमारी देश की जनता की किस्मत भी पेट्रोल डीजल के दामो की तरह रोज़ बदलती है, सरकार कहती है “अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार” में तेल की कीमत बढ़ेगी तो देश में भी कीमत बढ़ेगी. लेकिन जब “अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार” में कीमत घटेगी तब देश में कीमत मामूली कम होगी. वाह रे सरकार.

सरकार ने ये भी साफ़ कर दिया है की तत्काल प्रभाव से तेल के भाव में एक्साइज ड्यूटी नहीं घटाई जायेगी अर्थात् आपको अगर खरीदना है तो इसी भाव में खरीदना पड़ेगा. ये मनमानी के तेवर है, फ़िलहाल इसे सभी को झेलना पड़ेगा.

देश का सबसे बड़ा पलटू नेता – अरविन्द केजरीवाल

एक लीटर तेल पर जनता को करीब करीब 3 गुना पैसा ज्यादा चुकाना होता है, क्युकी क्रूड आयल पहले कम्पनीज तक आता है ,फिर ये कम्पनीज  डीलर्स को देती है, डीलर अपना कमीशन लगाकर सरकार को देती है, सरकार थोड़ी एक्साइज ड्यूटी लगाती है, और राज्य सरकार वेट लगाती है और आखिर में आप पर पंप मालिक टैक्स लगा देता है और थोडा चुरा भी लेता है. तब जाकर आपको तेल नसीब होता है.

ये पहली बार नहीं है की तेल की कीमत बड़ी है, लेकिन इतनी बड़ी है ये शायद पहली बार हो रहा है. सरकार चाहे कोई भी आ जाये सभी एक ही राग आलापते है. चुनाव से पहले बड़े बड़े वादे और समय आने पर अन्तराष्ट्रीय बाज़ार का दबाव. मोदी सरकार रोज़ कीमत बढ़ाने-घटाने की स्कीम बताई लेकिन क्या फायदा हुआ? सिर्फ दाम ऊपर ही गए है और देश की जनता की जेब पर दबाव पड़ा. जब चुनाव आएगा तो एक्साइज भी कम होगी और अन्तराष्ट्रीय बाज़ार भी मंदी पर होगा. पिछ्ले 9 महीने में 9 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है, हो रहा है ना विकास?

माफी वाले मफलरलाल – केजरीवाल

मन्त्रालय ने कहा है की जल्द ही तेल को GST के दायरे में लाया जाएगा जिससे दाम को लेकर राहत मिलेगी, आखिर ये अभी केवल एक सोच है. इस पर मंत्रालय ने कितना काम किया है ये नहीं जानते. लेकिन कहा जाता है राज्यों की आवक पर इसका गहरा असर होगा इसलिए इसे अभी सभी राज्य नहीं मान रहे है. सही हे, आम आदमी की आवक पर कितना भी असर हो, सर्कार की आवक पर नहीं होना चाहिए.

पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी ज्ञान का पिटारा खोलते हुए इसके कारण बता दिए है, और कहा है की अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कीमत बढ़ने से यहाँ भी कीमत बढती है.

 

उम्मीद है की आने वाले कुछ समय में सबकुछ नार्मल हो जायेगा, अगर नहीं हुआ तो कोई किस्सा हमे बात करने को मिल जायेगा.

(Visited 49 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :