Home Trending बच्चों को चेन से बांधकर रखते थे पैरेंट्स, साल में 1 बार मिलता था नहाने; ऐसे हुए आजाद PP

बच्चों को चेन से बांधकर रखते थे पैरेंट्स, साल में 1 बार मिलता था नहाने; ऐसे हुए आजाद PP

by GwriterP

वाशिंगटन: मां-बाप की हमेशा यही कोशिश रहती है कि उनके बच्चों को तकलीफ न हो, लेकिन अमेरिका में रहने वाले एक दंपति ने अपने बच्चों के साथ जो व्यवहार किया है, उसे सुनकर कोई भी रह जाएगा. यह कपल अपने बच्चों को जानवरों की तरह जंजीरों से बांधकर रखता था। उन्हें पर्याप्त भोजन भी नहीं दिया जाता था।

बच्चे अपनी आखिरी सांसें गिन रहे थे, तभी कहानी अचानक पलट गई। टीवी पर बताई माता-पिता की क्रूरता ‘मिरर’ में छपी खबर के मुताबिक अमेरिका के कैलिफोर्निया में रहने वाले जॉर्डन टर्पिन ने जब कैमरे पर अपने माता-पिता की क्रूरता को बताया तो लोग हैरान रह गए. 2018 में जॉर्डन किसी तरह मां-बाप के चंगुल से निकलने में कामयाब रहा. उस समय वह केवल 17 वर्ष के थे। इसके बाद उसने पुलिस की मदद से अपने बाकी भाई-बहनों को भी छुड़ाया। शुरू से कर रहे थे परेशान जॉर्डन टर्पिन ने बताया कि उनके 13 भाई-बहन हैं। उनके माता-पिता शुरू से ही उन्हें सौतेली मां की तरह मानते थे।

उन्हें पूरे दिन जंजीरों से बांधकर रखा गया। खाने के नाम पर उन्हें सूखी रोटी दी जाती थी, वो भी सांस लेने के लिए काफी। इतना ही नहीं बच्चों को साल में एक बार ही नहाने की इजाजत थी। माता-पिता अक्सर बाहर जाते थे, घूमते फिरते थे, लेकिन बच्चों को घर में कैद करके रखा जाता था। जॉर्डन समेत सभी बच्चों ने इसे अपनी किस्मत माना। मरने से भी नहीं डरता जॉर्डन ने कहा, ‘हम धीरे-धीरे मौत की तरफ बढ़ रहे थे। फिर एक दिन मेरी चेन खुली रह गई। मुझे लगा कि यह मेरा मौका है, अगर मैं मारा भी जाऊं तो मुझे इस नर्क से मुक्ति मिल जाएगी। मैं बहुत कमजोर हो गया था, मेरे हाथ-पैर कांप रहे थे।

फिर भी मैं किसी तरह खिड़की से बाहर निकला और दौड़ता चला गया। उसके बाद मैंने 911 पर कॉल किया और पूरी कहानी बताई। कोर्ट ने सुनाई 25 साल की सजा लड़की की शिकायत पर जब पुलिस अधिकारी उसके घर पहुंचे तो वहां का नजारा देखकर उनके भी होश उड़ गए. बच्चों को जंजीरों से बांधकर रखा गया था। उसकी हालत देखकर ऐसा लग रहा था कि उसे काफी दिनों से खाना नहीं मिला है। पुलिस ने आरोपी माता-पिता को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। अदालत ने माता-पिता को दोषी ठहराया और उन्हें 25 साल जेल की सजा सुनाई।

Related Articles

Leave a Comment