डायनासोर के बारे में ये बातें आपको हैरान कर देगी, करोड़ों साल पहले धरती पर था इन बड़े जानवरों का अस्तित्व

”डायनासोर” ये शब्द सुनते ही हमारे दिमाग में कई बड़े-बड़े जानवरों की तस्वीर अपने आप आ जाती है. ये जानवर ज्यादातर खुंखार किस्म के होते थे. जुरैसिक पार्क फिल्म में हमने जो जानवर डायनासोर के रूप में देखे हैं, दरअसल दुनिया में हजारों साल पहले ऐसे ही जीवों का अस्तित्व धरती पर हुआ करता था. वैज्ञानिकों ने भी डायनासोर के धरती पर मौजूदगी की बात को स्वीकार किया है. ऐसे में आज इन्हीं डायनासोर के बारे में जान लेते हैं…

टायरानोसोरस

टायरानोसोरस अपने आकार, व्यवहार और लगातार फिल्मो में आने की वजह से सबसे ज्यादा प्रचलित डायनासोर है. इस डायनासोर को टीरेक्स भी कहते है. विश्वभर के पुरातत्वविज्ञानी की मानें तो ये पश्चिमी दक्षिणी अमेरिका में पाए जाते थे. टायरानोसोरस दो पैरों पर चलते थे और अपने विशाल सिर और लम्बी भारी पूंछ से अपना संतुलन बनाते थे. टायरानोसोरस की लम्बाई 13 मीटर और वजन 7 टन से भी ज्यादा होता था. टायरानोसोरस की खोपड़ी अकेली 1.5 मीटर लम्बी होती था. टायरानोसोरस के दांत लंबे होते थे. टायरानोसोरस उन तीन डायनासोर में से एक है जिन्होंने गोडजिला की उपस्थिति को प्रेरित किया था.

दुनिया में मौजूद हैं कई बेखौफ जानवर, अच्छे से अच्छों के भी छक्के छुड़ा सकते हैं ये

वेलोसिरैप्टर

वेलोसिरैप्टर वास्तविकता में उनसे कहीं छोटे होते हैं, जितने जुरासिक पार्क में दिखाए गए हैं. वेलोसिरैप्टर का अर्थ  ‘swift seizer’ होता है जो आज से 73 लाख साल पहले क्रीटेशस काल में हुआ करते थे. वेलोसिरैप्टर ने जुरासिक पार्क फिल्म में बहुत बड़ा किरदार निभाया है लेकिन ये विशाल आकार के होने के बजाय साधारण मनुष्य के आकर के होते है. ऐसा माना जाता है कि इनके पंख भी होते थे. एक पूर्ण विकसित वेलोसिरैप्टर 2 मीटर लम्बे और 0.5 मीटर ऊंचे हो सकते थे और इनका वजन 15 किलो तक होता था. वेलोसिरैप्टर के लिए ऐसा माना जाता है कि ये अपने शिकार को पीछे के पैरों के पंजो से मारते थे.

जिगानोटोसौरस

जिगानोटोसौरस आकार में टीरेक्स का मुकाबला करने वाला जानवर था. ये सबसे तेज 16 किमी प्रति घंटे की रफ्तार के संतुलन के साथ दौड़ सकते थे. इनकी खोपड़ी बहुत बड़ी होती है. इनका मस्तिष्क टीरेक्स से आधा होता है लेकिन गंध को गहराई से सूंघ लेते थे. इनके दात नुकीले होते थे.

स्पाईनोसौरस

स्पाईनोसौरस का मतलब विशाल पीठ से है, जो उसके पीछे 1.5 मीटर तक लम्बाई में बढ़ी हुए होती है. स्पाईनोसौरस आज से 10 करोड़ साल पहले पाए जाते थे, जहां पर आज उत्तरी अफ्रीका है. स्पाईनोसौरस, टायनोसौरस से बड़े होते थे और सबसे बड़े मांसाहारी डायनोसोर माने जाते थे. स्पाईनोसौरस की लम्बाई लगभग 15 मीटर और वजन 7 से 20 टन के बीच होता था. स्पाईनोसौरस की लम्बी और पतली खोपड़ी होती थी. स्पाईनोसौरस वैसे तो दो पैरों पर चलते थे लेकिन कभी-कभी ये अपने चारों पैरों से भी झुक सकते थे.

एलोसौरस

एलोसौरस एक विशाल डायनासोर था जो लगभग 150 साल तक जीवित रहा था. यह एक मांसभक्षी था जिसके बड़े और तेज दांत होते थे. ऐसा माना जाता है कि ये अपने से भारी डायनासोर पर भी हमला कर सकते थे. एलोसौरस आज से 150 करोड़ जुरासिक काल में हुआ करते थे और एलोसौरस  का अर्थ ‘different lizard’ होता है. एलोसौरस की खोपड़ी विशाल होती थी और ये भी दो पैरों पर चलता था. इसके शरीर और सिर को इसकी पूंछ संतुलित करती थी. एलोसौरस की लम्बाई लगभग 8.5 मीटर और वजन लगभग 2.3 टन होता था.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर बताएं कि जुरैसिक पार्क मूवी किन विलुप्त जानवरों पर आधारित है.

(Visited 42 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :