40 लाख रुपए की महंगी गाड़ी को लोगों ने बना दिया कूड़ादान, जानिए क्या रही इसके पीछे की वजह

खून पसीने की कमाई से अपना सामान खरीदने की एक अलग ही खुशी होती है. लेकिन जब ये महंगे सामान घर आते ही खराब हो जाएं तो दिल बहुत बुरी तरह से टूट जाता है. ऐसे में जब हम कोई गाड़ी या फिर महंगा अप्लाइंस खरीदते हैं और उसमें कोई दिक्कत आ जाए तो कंपनी हमें गारंटी, वारंटी के साथ साथ कस्टमर केयर नंबर भी देती है जो इस सामान से जुड़ी परेशानियों का हल देते हैं. लेकिन इतने के बाद भी कई बड़ी नामी कंपनिया हमारी शिकायतों को ठीक से सुनती तक नहीं हैं. ग्राहक चाहे जितना परेशान हो ऐसी नामी कंपनियों को कुछ असर नहीं पड़ता. ऐसे में कई ग्राहक इन कंपनियो को मिल जाते हैं जो इन्हें सबक सिखाने का दमखम रकते हैं. यहां जानिए ऐसे ही दो ग्राहको के बारे में.

Red Dead Redemption 2 की ये बातें आपके पैरों तले जमीन खिसका सकती है…

उत्तर प्रदेश के एक ग्राहक ने जापान की होंडा कंपनी से होंडा सिटी गाड़ी खरीदी. हालांकि किसी कारण से उनकी गाड़ी का पीछे का हिस्सा डैमेज हो गया. इस ग्राहक ने कंपनी से कार का बीमा भी कराया हुआ था. गाड़ी को ठीक कराने के लिए इन्होंने कंपनी से संपर्क किया. कुछ फॉर्मलिटी पूरी होने के बाद उन्होंने गाड़ी को बस्ती से लखनऊ में कंपनी में जमा करा दिया. 15 दिन बाद फिर से उन्हें बुलाया गया. लेकिन गाड़ी को वाकई ठीक करने की बजाय लीपालोपी करते हुए ग्राहक को गाड़ी वापस कर दी.

जब उन्होंने इस बात की विरोध किया तो मैनेजर ने उन्हें बाहर निकाल दिया. जिसके बाद उन्होंने कंपनी को सबक सिखाने की ठान ली. इसके लिए उन्होंने गाड़ी में कूड़ादान बांध कर तस्वीर क्लिक की और सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दीं. ये तस्वीरें खूब वायरल हुई और कंपनी की खूब थू-थू हुई. जिसके बाद कंपनी ने उनसे संपर्क करते हुए गाड़ी लेकर आने के लिए कहा. लेकिन ग्राहक ने कहा कि वो खुद उनके घर आकर गाड़ी लेकर जाएं और ठीक करके दें और आखिर में हुआ भी ऐसा ही.

वहीं एक दूसरी घटना पुणे में हुई. ग्राहक ने ब्रांड न्यू 40 लाख रुपए की फॉर्चूनर कार खरीदी. 2018 में खरीदी इतनी महंगी कार कुछ महीने ही अच्छे से चल पाई और फिर इस गाड़ी के इंजन में दिक्कत आने लगी. इसके साथ ही गाड़ी में और भी कई बहुत बड़ी परेशानियां आने लगीं. साथ ही गाड़ी के कई हिस्सों का रंग भी हल्का पड़ने लगा. कंपनी से संपर्क करने पर उनकी गाड़ी को लीपापोती करते हुए वापस कर दिया. इस्तेमाल करने पर मालिक को पता चला की दिक्कत अभी भी ठीक नहीं हुई. फिर से संपर्क करने पर कंपनी के इंप्लाई ने उनके साथ टेस्ट ड्राइव की और बताया की जल्द ठीक हो जाएगा.

टेस्ट ड्राइव के बाद सेल्समैन बाहर आया और उनसे चिकनी चुपड़ी बाते करते हुए गाड़ी ठीक होने का दावा करने लगा. गाड़ी का मालिक समझ चुका था कि कंपनी गाड़ी को ठीक नहीं करना चाहती और कंपनी ने उन्हें खराब गाड़ी बेची है. इसके बाद कंपनी को सबक सिखाने का फैसला कर चुके गाड़ी के मालिक ने 40 लाख की इस गाड़ी को कूड़ादान बना दिया और इसमें खूब कूड़ा भरते हुए तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिए जिन्हें वायरल होने में जरा भी समय नहीं लगा. कंपनी को जैसे ही भनक लगी उन्होंने इस गाड़ी को ठीक करने के आदेश दिए. जिसके बाद जाकर गाड़ी ठीक हुई.

उम्मीद है कि ऐसे मामलों से आप सबक लेंगे और अपनी मेहनत की कमाई का एक पैसा ऐसी कंपनियो को फिजूल में नहीं देंगे.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि आपको कौनसी कार पसंद है?

(Visited 42 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :