क्या चल रहा है ?
घर पर क्रिस्पी फ्रेंच फ्राइज बनाने की सीक्रेट रेसिपी | अमित शाह को कौनसी खूबियां बाकी गृहमंत्रियों से अलग बनाती है? | भारतीय सेना के जवान भी इन कुत्तों को सलाम करते हैं...जानिए क्यों | कैसे बनता है खून? शरीर में कमी होने से कैसे बढ़ाएं खून की मात्रा? | बाप रे!! मोदी-शाह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाएंगे? | ओवैसी के बारे में क्या सोचते हैं हैदराबादी मुसलमान? | कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया |

आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस

यूथ के बीच चिप्स और कॉलड्रिंक का कॉम्बिनेशन काफी डिमांडिंग रहता है. मार्केट में कई कंपनियों के अलग-अलग ब्रांड और फ्लेवर के चिप्स मौजूद है जिसे बच्चों से लेकर बड़ों तक काफी चाव से खाते हैं. चिप्स को मार्केट के साथ ही घरों में भी बनाया जा सकता है. लेकिन दोस्तों क्या आप जानते हैं कि बड़ी-बड़ी कंपनियां आलू चिप्स को कैसे बनाती है और घरों में कैसे चिप्स तैयार किए जाते हैं? आइए जानते हैं...

चिप्स, चाहे घर में बनाया जाए या कोई बड़ी कंपनी बनाए, दोनों में शुरुआती प्रक्रिया एक जैसी ही होती है. दोनों में हमें आलू की जरूरत पड़ती है. कंपनियों द्वारा किसानों से आलू खरीदा जाता है या फिर खुद ही खेती करवाई जाती है. आलू आने के बाद सबसे पहले उसकी धुलाई की जाती है. इसके बाद चिप्स बनाने की प्रक्रिया शुरू होती है. दोस्तों, सबसे पहले हम कंपनियां जैसे आलू बनाती है उस प्रक्रिया को समझते है.

चिप्स बनाने की प्रक्रिया में सबसे पहले आलू को पिलर मशीन में डाला जाता. यह मशीन आलू को साफ कर देती है साथ ही उसके ऊपर का छिलका भी उतार देती है. छिलका उतारने के बाद सफेद आलू को अगली मशीन में डाला जाता है. इसकी अगली प्रक्रिया में सफेद आलू को मशीन के जरिए स्लाइस यानी काटा जाता है. शेप और डिजाइन के हिसाब से मशीन आलू को काट देती है. स्लाइसर के साथ ही उसमें नमक, मसाले जैसी शुरुआती चीजों को डाल दिया जाता है. इसके बाद आलू को सुखाया जाता है. मशीन से आलू को 2-3 घंटे में सूखा दिया जाता है. इसके बाद इसे अगली प्रक्रिया के लिए भेज दिया जाता है.

आलुओं से बने चिप्स को सुखाने के बाद उन्हें तेल में फ्राई यानी तला जाता है. चिप्स को तलने के बाद उन पर एक्स्ट्रा मसाला या फिर उन्हें अलग-अलग फ्लेवर के हिसाब से तैयार किया जाता है. आखिर में कंपनियां अपने ब्रांड के पैकेट में उसे पैक करके नाइट्रोजन गैस के साथ उन्हें बंद कर देती है. पैकिंग के समय नमी का खास ख्याल रखा जाता है. नमी आने से चिप्स ज्यादा समय नहीं टिक पाते हैं. दोस्तों कंपनियों में तो चिप्स बनाने की प्रक्रिया आपने जान ली, चलिए अब घर में चिप्स कैसे बनते हैं, इसे समझते हैं?

घर में चिप्स बनाने के लिए हमें आलू को छीलना पड़ता है. आलू को छीलकर पानी में डालकर रखा जाता है. इसके बाद उसके स्लाइस किए जाते है. टुकड़ों में काटकर उसे पानी में भिगोया जाता है. पानी में भिगोने के दौरान उसमें नमक और मसाला डाला जाता है. इसके बाद चिप्स को किसी कपड़े पर डालकर पंखे या सूरज की मदद से सुखाया जाता है. चिप्स को सुखाने के बाद उसे मस्टर्ट या रिफाइंड तेल में तल लिया जाता है और लीजिए घर में आपके चिप्स तैयार है.

दोस्तों, घर और किसी बड़ी चिप्स की कंपनी में लगभग एक जैसे ही तरीके से चिप्स बनते हैं, फर्क बस बनाने की मात्रा और पैकिंग में आता है. दोस्तों, कमेंट कर जरूर बताएं कि आपको कौनसे प्लेवर के चिप्स पसंद है?