Home Facts खूंखार जानवरों के साथ जंगल में खोया मासूम, 3 दिन बाद इस हालत में मिला

खूंखार जानवरों के साथ जंगल में खोया मासूम, 3 दिन बाद इस हालत में मिला

by GwriterP

रूस से एक चमत्कारी वाकया सामने आया है। जहां तीन रात के बाद जंगल में खोई हुई एक साल की बच्ची सकुशल मिली। हैरान करने वाली बात यह है कि जहां लड़की मिली है, वहां जंगली भालू और भेड़िये घूमते रहते हैं। घने जंगल में जहां जंगली भालू और भेड़िये घूमते हैं, वहां एक साल की यह बच्ची चमत्कारिक ढंग से तीन रात तक अकेली रही। जिसने भी इस घटना के बारे में सुना वह दंग रह गया।

द मिरर के मुताबिक, इस रूसी लड़की का नाम लुडा कुजिना है। इसकी उम्र सिर्फ एक साल है। एक दिन बिना बाड़ के बगीचे में खेलते हुए, वह अपनी माँ से दूर जंगल में पहुँच गई। जब मां को बच्चा नहीं मिला तो उसने शोर मचाया और लोग उसकी तलाश करने लगे। स्मोलेंस्क क्षेत्र के ओबिंस्क के पास एक साल की बच्ची के लिए बड़े पैमाने पर बचाव अभियान में करीब 500 लोग शामिल हुए।

हालांकि, कई दिन बीत जाने के बाद भी उसे किसी ने नहीं देखा था, इसलिए लोगों को लगा कि जंगली जानवर उसे खा गए होंगे। लेकिन एक दिन अचानक ल्यूडा अपने घर से ढाई मील दूर घने जंगल में चमत्कारिक ढंग से मिली। बचाव दल के एक प्रवक्ता ने कहा, “लंबी खोज के बाद, एक टीम आराम करने के लिए एक पेड़ के पास रुकी थी, तभी अचानक उन्हें एक छोटी सी चीख़ सुनाई दी।”

टीम को पहले तो लगा कि जंगल में बच्चे के रोने की आवाज कैसे आ सकती है, लेकिन जब उन्हें लगातार रोने की आवाज सुनाई दी तो बचाव दल ने आसपास तलाश शुरू कर दी. तभी उसकी नजर लुडा पर पड़ी। रेस्क्यू टीम को देखकर लुडा ने कथित तौर पर अपनी बाहें फैला दीं और टीम ने तुरंत उसे उठाया और गले से लगा लिया। रिपोर्ट के मुताबिक ल्यूडा को जिंदा देख हर कोई रो रहा था. सबकी आंखों में खुशी के आंसू थे।

एक वर्षीय लुडा जंगल के बीच में गिरे हुए पेड़ों के बीच पाया गया, जहां भूरे भालू और भेड़िये सहित जंगली जानवर घूमते हैं। रात के समय यहाँ का तापमान असामान्य रूप से गर्म था, जिससे ल्यूडा को जीवित रखने में मदद मिली। हालांकि वह कमजोर हो गई, उसे कीड़ों ने काट लिया, लेकिन वह जीवित थी।

Related Articles

Leave a Comment