अगर इन 5 चीजों में सुधार नहीं हुआ तो भारत कभी नहीं बन पाएगा एक ‘महाशक्ति’ देश !

भारत निरंतर प्रगति कर रहा है लेकिन भारत अभी तक सुपर पावर देश के रूप में नहीं जाना जाता है. भारत अभी विकासशील देशों में गिना जाता है जो कि लगातार विकास को बढ़ावा देते हुए आगे बढ़ रहा है. हालांकि भारत भी दुनिया में महाशक्ति के रूप में खुद को स्थापित कर सकता है लेकिन इसके लिए भारत को कुछ अहम मुद्दों पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है. आइए जानते हैं किन मुद्दों पर ध्यान देकर भारत भविष्य में सुपर पावर देश बन सकता है…

आर्थिक सुधार
भारत देश की सरकार देश के हित में फैसले लेकर आर्थिक सुधार को बढ़ावा देती है तो देश को सुपर पावर बनाया जा सकता है. सुधार के तहत आम तौर पर विनियमन और व्यापार को आसान बनाने पर जोर दिया जाता है. वास्तविकता तो यह है कि कई देश ऐसे हैं जो आर्थिक सुधारों को अंजाम तो दे चुके हैं, लेकिन वे महाशक्ति नहीं हैं और ऐसे देश भी हैं जिन्होंने कोई भी आर्थिक सुधार नहीं किए हैं, लेकिन आज महाशक्ति हैं. ऐसी स्थिति से निपटने के लिए भी भारत को तैयार रहना होगा. ऐसे में सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि जनता बिना किसी दबाव के खुद टैक्स भरने को तैयार हो, कुशलतापूर्वक न्याय और सेवाएं सभी को उपलब्ध हों.

समाज में मजबूती और गतिशीलता
समाज में मजबूती और गतिशीलता का होना भी देश को सुपर पावर बनने की ओर अग्रसर करता है. एक प्रगतिशील समाज अपनी नई सोच और परोपकार करने की प्रवृति के लिए जाना जाता है.

कालेपन से हैं परेशान तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खा, एक दिन में हो जाएंगे गोरे !

प्रति व्यक्ति आय में इजाफा
जब तक भारत में प्रति व्यक्ति आय में इजाफा नहीं होगा तब तक भारत सुपर पावर नहीं बन सकता है. सुपर पावर बनने के लिए चाहिए कि देश में सभी लोगों के पास रोजगार हो और कोई भी बेरोजगार न रहे. सभी लोगों के पास रोजगार होगा, तभी प्रति व्यक्ति आय में बढ़ोतरी देखी जाएगी.

आयात-निर्यात
भारत को चाहिए कि वो अपने आयात और निर्यात संबंधी नीतियों में थोड़ी छूट दे ताकि विश्व में भारत के साथ व्यापार करने की प्रक्रिया को आसान बनाया जा सके. भारत विश्व में जितना आयात-निर्यात को बढ़ावा देगा, देश का लेन-देन भी उतना ही ज्यादा होता जाएगा. इससे भी सुपर पावर बनने की दिशा की ओर एक कदम आगे भारत बढ़ा सकता है.

पूंजी निर्माण
भारत को पूंजी निर्माण को बढ़ावा देना चाहिए. पूंजी निर्माण से मतलब देश में कारोबार को बढ़ावा देने से है. देश में देसी और विदेशी जितने ज्यादा कारोबार संचालित होंगे, देश में उतनी ही तेजी से पूंजी निर्माण भी होगा. इससे भी देश को महाशक्ति बनने की ओग अग्रसर किया जा सकता है.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि वर्तमान में भारत का राष्ट्रपति कौन है.

(Visited 106 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :