क्या चल रहा है ?
घर पर क्रिस्पी फ्रेंच फ्राइज बनाने की सीक्रेट रेसिपी | अमित शाह को कौनसी खूबियां बाकी गृहमंत्रियों से अलग बनाती है? | भारतीय सेना के जवान भी इन कुत्तों को सलाम करते हैं...जानिए क्यों | कैसे बनता है खून? शरीर में कमी होने से कैसे बढ़ाएं खून की मात्रा? | बाप रे!! मोदी-शाह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाएंगे? | ओवैसी के बारे में क्या सोचते हैं हैदराबादी मुसलमान? | कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया |

पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है?

हिंदुस्तान और पाकिस्तान के संबंध तो शुरूआती दिनों से ही खराब हैं. लेकिन बांग्लादेश के जन्म के समय पश्चिमी पाकिस्तान के अत्याचारों से मुक्त कराने वाले हिंदुस्तान के संबंध उस देश से आज भी अच्छे हैं.

हिंदुस्तान को 1947 में आजादी मिली. आजादी मिलने के बाद इंडिया का पार्टीशन हुआ. हिंदुओं और मुस्लिमों को हिन्दुस्तान और पाकिस्तान दो अलग देश बनाकर दिए गए. कुछ मुस्लिम परिवारों ने भारत को चुना तो कुछ हिंदुओं ने पाकिस्तान में रहना पसंद किया. वहीं 1971 में विभाजन की चिंगारी दोबारा उठी और भारत को फिर से विभाजित कर इस्लामिक देश बांग्लादेश को बनाया गया. लेकिन दोस्तों क्या आपको पता है... इन दोनों मुस्लिम बहुल देशों में हिंदुओं के हाल क्या हैं? चलिए... जानते हैं.

भारत-पाक के विभाजन के बाद से ही दोनों देश अलग हो गए. दोनों देशों का संविधान अलग हो गया. ऐसे में मुस्लिम बहुल देश पाकिस्तान के संविधान में लिखा था कि कोई भी माइनोरिटी वाले समुदाय का व्यक्ति देश का राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री नहीं बन सकता. इससे साफ हो जाता है कि संविधान में ही जब कम पॉपुलेशन वाले हिंदुओं को शासन में जगह नहीं मिली तो आम नागरिकों द्वारा भेदभाव करना तो स्वाभिक है.

पाकिस्तान और बांग्लादेश दोनों ही जगह हिंदुओं की स्थिति कुछ ठीक नहीं है. बच्चों को बचपन से ही कुरान पढ़ाया जाता है. स्कूल से लेकर कॉलेज तक बच्चों को हिंदू मुस्लिम का भेदभाव झेलना पड़ता है. इसके बाद नौकरी में भी मुस्लिम समुदाय को ही प्राथमिकता दी जाती है.

त्योहारों की बात करें, तो हिंदुओं के दिवाली जैसे बड़े त्योहार को पाकिस्तानी आर्मी द्वारा मनाने से मना किया जाता है. वहीं मुस्लिमों के त्योहारों को बड़े जश्न के रूप में मनाया जाता है. हिंदु महिलाओं से उनके सिंदूर, बंदी आदि चीजों पर अजीब से सवाल किए जाते हैं. कई बार तो लोग उन्हें देखकर अपनी बात करने और देखने का नजरिया बदल देते हैं.

दोनों ही देशों के संविधान में तो सभी धर्मों को बराबरी का हक मिला हुआ है लेकिन जमीनी स्तर पर ऐसा नजर नहीं आता. पाकिस्तानी या बांग्लादेशी हिंदू होने किसी बुरे सपने से कम नहीं है. पूजा स्थलों पर भी हिंदुओं को खासा परेशानी का सामना करना पड़ता है.

हिंदुस्तान और पाकिस्तान के संबंध तो शुरूआती दिनों से ही खराब हैं. लेकिन बांग्लादेश के जन्म के समय पश्चिमी पाकिस्तान के अत्याचारों से मुक्त कराने वाले हिंदुस्तान के संबंध उस देश से आज भी अच्छे हैं. भारत के बेहद खास रिश्ते वाले देशों की सूची में बांग्लादेश का नाम ऊपर ही मिल जाएगा.

पूर्वी पाकिस्तान कहे जाने वाले बांग्लादेश की संस्कृति, भाषा आदि पश्चिमी पाकिस्तान से अलग थी, साथ ही पश्चिमी पाकिस्तान द्वारा किए जाने वाला भेदभाव बांग्लादेश को हिंदुस्तान के ओर भी ज्यादा करीब ले आया. साथ ही भारत और बांग्लादेश के अच्छे रिश्तो के पीछे पड़ोसी मुल्कों का भी हाथ है. चीन जैसे देश बांग्लादेश जैसे छोटे देशों को पैसों या विकास की सौगात देकर अपने खेमे में करने की जुगत में लगे रहते हैं. जिससे भारत को खतरा है. ऐसे में भारत, बांग्लादेश का पूरा समर्थन करता है. हिंदुस्तान और बांग्लादेश के बीच में कई विकास और आर्थिक संबंधित समझौते भी हो चुके हैं. जिससे इन दोनों देशों को रिश्ता मजबूत हो गया है.

भारत के नक़्शे को यदि हम देखें तो हमारे पूर्वी राज्यों मेघालय, त्रिपुरा, असम और पश्चिम बंगाल से घिरा बांग्लादेश भौगोलिक रूप से अपना ही लगता है. इसलिए भारत और बांग्लादेश के संबंधों की मजबूती निश्चित रूप से पूर्वोत्तर राज्यों को सहूलियतें प्रदान करेगी. ऐसे में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस कड़ी को मजबूत करने में लगे हुए हैं. दोस्तों, कमेंट कर जरूर बताएं किव मुस्लिम समुदाय किस धर्म को मानते हैं?