डर पर पाना चाहते हैं काबू तो जरूर अपनाएं ये कारगर तरीके

हमारे मानव शरीर में बहुत सारी फीलिंग्स होती है. कुछ अच्छी होती है तो कुछ बुरी होती है. इन्हीं फीलिंग्स में से एक डर नाम की फीलिंग्स भी होती है. डर एक ऐसी फीलिंग्स होती है जो काफी भयानक होती है. डर की वजह से हम कई बार ऐसे काम भी नहीं करते हैं जो करने से हमें काफी फायदा पहुंच सकता है. ऐसे में हमें अपने डर का सामना करना भी आना चाहिए लेकिन कई लोग अपने डर का सामना करने से भी हिचकिचाते हैं और जिंदगी में आगे नहीं बढ़ पाते हैं. ऐसे में आइए जानते हैं अपने डर पर काबू करने के लिए क्या किया जा सकता है…

खुलकर सामने आएं
हम जितना डर से बचते हैं, डर उतना ताकतवर होता जाता है. अगर आप एक दिन लिफ्ट में जाने से डरते हैं, तो अगले दिन लिफ्ट में जरूर जाएं. लिफ्ट में खड़ें हों और तब तक भय की अनुभूति करें, जब तक कि वह दूर नहीं भागा जाता. अपने डर का पूरी तरह से सामना करें. यकीन मानिए कुछ ही समय में आपका डर दूर भागने लगेगा. ऐसा आप किसी भी परिस्थिति में कर सकते हैं.

सबसे बुरे के लिए तैयार रहें
आप जितनी बार डर की आंख में आंख डालकर मिलाते हैं, अगली बार वह उतना ही कमजोर होकर मिलता है और आखिर में वह भय हमेशा के लिए समाप्‍त हो जाता है. सोचिए भय से आपके साथ सबसे बुरी परिस्थिति क्‍या हो सकती है. यही न कि भय आपको हार्ट अटैक तक पहुंचा सकता है तो फिर हार्ट अटैक के बारे में सोचना शुरू करें और खुद से कहें कि ऐसा तो हो ही नहीं सकता. आपका डर खुद ब खुद गायब होने लगेगा.

परफेक्‍ट कुछ नहीं
जिंदगी में सब कुछ सफेद और काले के बक्‍से में ही फिट नहीं किया जा सकता. मैं दुनिया का सबसे अच्‍छा इंसान नहीं हूं, मैं अपने जीवन में नाकाम हो गया. इस तरह की सोच आपको केवल फिक्रमंद ही करेगी. जीवन में बहुत तनाव हैं, लेकिन फिर भी हम यही उम्‍मीद करते हैं कि हमारी जिंदगी परफेक्‍ट होनी चाहिए. अच्‍छा-बुरा वक्‍त आता रहता है और यह बात मानकर चलिए कि जीवन उतार-चढ़ाव का ही नाम है. इसलिए नाकामी से डरें नहीं, इसे नए जीवन की सीख मानें.

स्कूटी खरीदें या बाइक? इस सवाल से परेशान हैं तो आपको यहां मिलेगा आपके हर सवाल का जवाब

मजबूत हो आधार
अच्‍छी नींद, पौष्टिक आहार और सैर आपको तनाव, चिंता और भय को दूर करने में काफी कारगर होती है. जब चिंताएं आपके मन के दरवाजे को तोड़कर अंदर जाने का प्रयास कर रही हों, उसी समय सोना अधिक कारगर होता है. उस समय जागने का प्रयास न करें. तनाव और डर को दूर करने के लिए अधिकतर लोग एल्‍कोहल और नशे का सहारा लेने लगते हैं.

बुरे से बुरा क्या होगा
जब आप किसी चीज को लेकर फिक्रमंद हों, चाहे वो कोई काम, रिलेशशिप, एग्‍जाम या इंटरव्‍यू हो. तो यह सोचिए कि इसमें बुरे से बुरा क्‍या हो सकता है. मान लीजिए कि आपके किसी प्रजेंटेशन का बहुत बुरा अनुभव रहता है, लेकिन बावजूद आपके बचने की संभावना बनी रहती है. कई बार इन चीजों के प्रभाव के कारण व्‍यक्ति को पैनिक अटैक हो सकता है. ऐसी परिस्थिति में दिल की धड़कन तेज होने लगती है. इस पैनिक को दूर करने के लिए हाथों को पेट पर रखकर गहरी और धीमी सांसें लें. एक मिनट में 12 से ज्‍यादा सांसें न लें. इससे आपका पैनिक दूर हो जाएगा.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि आपको सबसे ज्यादा डर किस बात का लगता है.

(Visited 30 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :