क्या चल रहा है ?
भारतीय सेना के जवान भी इन कुत्तों को सलाम करते हैं...जानिए क्यों | कैसे बनता है खून? शरीर में कमी होने से कैसे बढ़ाएं खून की मात्रा? | बाप रे!! मोदी-शाह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाएंगे? | ओवैसी के बारे में क्या सोचते हैं हैदराबादी मुसलमान? | कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया | इसरो की कमाई कैसे होती है? कहां से आता है करोड़ों रुपया ? | विदेशों में भी मोदी मैजिक, मोदी के नाम से चुनाव जीत रहे हैं विदेशी नेता! |

कैसे हुआ चीन में बौद्ध धर्म का विस्तार?

बौद्ध धर्म के बारे में कौन नहीं जानता या गौतम बुद्ध के बारे में कोई ही होगा जिसने सुना न हो, लेकिन क्या आपको ये पता है कि बौद्ध धर्म कब और कैसे शुरू हुआ, अगर नहीं तो कोई बात नहीं हम आपको बताते है बौद्ध धर्म का इतिहास और चीन में बौद्ध धर्म के विस्तार के पीछे की परिस्थितियां क्या रहीं. चीन में बौद्ध धर्म के बारे में जानने से पहले थोड़ा बौद्ध के बारे में जानते है कि यह कब, कैसे और किसने शुरू किया.

बौद्ध धर्म ऐसे नियमों का संग्रह है जो हमें यथार्थ के सही स्वरूप को पहचान कर अपनी पूरी मानवीय क्षमताओं को विकसित करने में सहायता करता है. बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परम्परा से निकला धर्म और दर्शन है. इसके संस्थापक भगवान बुद्ध हैं. वे 563 ईसा पूर्व से 483 ईसा पूर्व तक रहे. ईसाई और इस्लाम धर्म से पूर्व बौद्ध धर्म की उत्पत्ति हुई थी. उक्त दोनों धर्म के बाद यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा धर्म है. इस धर्म के मुख्यत: दो संप्रदाय है हिनयान और महायान. वैशाख माह की पूर्णिमा का दिन बौद्धों का प्रमुख त्योहार होता है. बौद्ध धर्म के चार तीर्थ स्थल हैं- लुंबिनी, बोधगया, सारनाथ और कुशीनगर. बौद्ध धर्म के धर्मग्रंथ को त्रिपिटक कहा जाता है. इस धर्म को मानने वाले ज्यादातर चीन, जापान, कोरिया, थाईलैंड, कंबोडिया, श्रीलंका, नेपाल, भूटान और भारत आदि देशों में रहते हैं.

चीन की सभ्यता विश्व की पुरातनतम सभ्यताओं में से एक है. प्राचीन चीन में बौद्ध धर्म के पहले कई महान राजवंशों का धर्म प्रचलित था. उनमें से एक शा राजवंश था, जो 2070 ईसा पूर्व था. शा वंश से पहले चीन में तीन अधिपतियों और पांच सम्राटों का काल था. पांच सम्राटों में से अंतिम सम्राट शुन था. शुन ने अपनी गद्दी यु महान को सौंपी और उसी से शा राजवंश सत्ता में आया. इसे शिया राजवंश भी कहा जाता था. जिसके बाद शांग राजवंश का दौर आया, जो 1600 ईसापूर्व से 1046 ईसापूर्व तक चला. शांग राजवंश के बाद चीन में झोऊ राजवंश सत्ता में आया. चीन में झोऊ राजवंश का काल लंबे समय तक चला. इनके ही काल में चीन में कन्फयूशियस के विचार और बौद्ध धर्म का विकास हुआ. बाद में ताओ वाद (लाओत्से तुंग), मोहीवाद (मोजी) और न्यायवाद (हान फेईजी और ली सी) भी खूब फला-फूला, लेकिन इन सभी के बीच बौद्ध धर्म ने अपनी जड़ें जमाईं और इसने चीन की भिन्न-भिन्न विचारधाराओं को एक सूत्र में बांध दिया.

बौद्ध धर्म के कारण चीन में जातिगत एकता और शक्ति का विकास हुआ. इस विचारधारा के फैलने के कारण चीन में दासप्रथा के खात्मे के साथ ही छिन राजवंश का उदय हुआ. बौद्ध धर्म वैसे तो भिक्षुओं के माध्यम से 200 ईसा पूर्व ही चीन में प्रवेश कर गया था, संभवत: उससे पूर्व.लेकिन राजाओं के माध्यम से यह व्यापक पैमाने पर पहली शताब्दी के आसपास चीन का राजधर्म बनने की स्थिति में आ गया था. धीरे-धीरे बौद्ध धर्म के कारण चीन में राष्ट्रीय एकता स्थापित होने लगी, राजवंशों के झगड़े कम होने लगे और आज बौद्ध धर्म चीन का प्रमुख धर्म है.

बौद्ध धर्म की परम्पराओं ने तकरीबन दो हजार वर्षों तक चीनी संस्कृति और सभ्यता पर एक गहरा प्रभाव छोड़ा है. यह बौद्ध परम्पराएं चीनी कला, राजनीति, साहित्य, दर्शन और चिकित्सा में देखी जा सकती हैं. दुनिया की 65% से अधिक बौद्ध आबादी चीन में रहती हैं. यदि विश्वस्तर पर देखा जाए तो गौतम बुद्ध के समय में चीन में कन्फ्यूशियस विचार, भारत में वैदिक और बुद्ध के विचार और ईरान में जरथुस्त्र विचारधारा का बोलबाला था. दोस्तों क्या आपको पता है चीन में कौन सी भाषा बोली जाती है. हमें कमेंट में लिखकर जरूर बताएं.