क्या चल रहा है ?
घर पर क्रिस्पी फ्रेंच फ्राइज बनाने की सीक्रेट रेसिपी | अमित शाह को कौनसी खूबियां बाकी गृहमंत्रियों से अलग बनाती है? | भारतीय सेना के जवान भी इन कुत्तों को सलाम करते हैं...जानिए क्यों | कैसे बनता है खून? शरीर में कमी होने से कैसे बढ़ाएं खून की मात्रा? | बाप रे!! मोदी-शाह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाएंगे? | ओवैसी के बारे में क्या सोचते हैं हैदराबादी मुसलमान? | कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया |

विदेशों में भी मोदी मैजिक, मोदी के नाम से चुनाव जीत रहे हैं विदेशी नेता!

भारतीय चुनाव में नरेंद्र मोदी नाम का मैजिक साल दर साल मजबूत होता जा रहा है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव की बात हो या 2019 की... मोदी नाम से बीजेपी ने पिछली बार से ज्यादा सीटें जीती हैं. भारत में तो मोदी के नाम के जलवे हैं ही, लेकिन विदेशों में भी नेताओं द्वारा मोदी का नाम चुनाव प्रचार में खूब लिया जा रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेत्यानाहु, रूस के प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन या फिर ब्रिटिश के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन, सभी नेताओं ने अपनी चुनावी जन सभाओं में मोदी का नाम कहीं न कही इस्तेमाल किया ही है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर मोदी के नाम में ऐसा क्या है जो विदेशों में नेता इनके नाम से चुनाव जीत जाते हैं?

मोदी पर विश्वास
भारतीय राजनीति को विदेशों में भी खूब पढ़ा और जाना जाता है. ऐसे में विदेशी वोटर्स भी नरेंद्र मोदी को एक विश्वास के तौर पर देखते हैं. जब उनका नेता मोदी के समर्थन या उनके पक्ष की कोई बात करता है तो लोग उन्हें वोट दे देते हैं. इसीलिए चुनावों के वक्त ट्रंप और बोरिस जैसे नेता मोदी का नाम ज्यादातर सभा में लेते हैं.

वैश्विक नेता
विदेशी नेतओं के जरिए मोदी का नाम लेने के पीछे एक महत्वपूर्ण कारण यह भी है कि वह वैश्वविक नेता है. हिंदुस्तान के साथ विदेशों में भी मोदी को खूब पसंद किया जाता है. मोदी के बोलने का तरीका किसे पसंद नहीं होगा. ऐसे में नेताओं के जरिए उनका नाम इस्तेमाल करके खुद को मोदी का अच्छा मित्र बताया जाता है, जिससे उन्हें वोट मिल सके.

भारतीय वोटर्स के लिए
मोदी का नाम भारतीय मूल के विदेशी वोटर्स को अपने पक्ष में करने के लिए भी किया जाता है. विदेशों में भारतीय काफी बसे हुए हैं और पीएम मोदी से प्रभावित भी हैं. ऐसे में विदेशी नेता वहां के भारतीय मूल के नागरिकों का वोट हासिल करने के लिए भी पीएम मोदी के नाम का इस्तेमाल चुनाव प्रचार में कर रहे हैं.

शक्ति प्रदर्शन
मोदी आज के समय में सबसे ताकतवर नेताओं में से एक हैं. ऐसा शायद ही कोई देश होगा जहां के शीर्ष नेतृत्व से मोदी के अच्छे और उम्दा संबंध न हो. ऐसे में विदेशी नेताओं के जरिए उनकों अपना अच्छा मित्र बताकर खुद को भी शक्तिशाली दर्शाया जाता है. इससे मतदाताओं की नजरों में उनकी छवि मजबूत हो जाती है.

दोस्तों, यह तो जरूर है कि मोदी सभी देशों में अच्छे संबंध रखते हैं. साथ ही सभी नेताओं के जरिए उनकों खूब प्यार और इज्जत दी जाती है. भारत के कद को पीएम मोदी ने नई उच्चाइयां दी है. अभी हाल ही में ब्रिटिश में हुए चुनाव में बोरिस जॉनसन ने पीएम मोदी के नाम का इस्तेमाल किया और मतदाताओं ने उन्हें खूब प्यार दिया. बोरिस जॉनसन पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने में सफल रहे. दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि नरेंद्र मोदी कौनसी राजनीतिक पार्टी से जुड़े हैं.