लोकसभा चुनाव से पहले मोदी और अमित शाह ने कर दिया खेल, विपक्षी दलों ने अभी से मान ली अपनी हार!

लोकसभा चुनाव नजदीक है. ऐसे में सत्ताधारी पार्टी बीजेपी ने भी अपनी कमर कस ली है. साल 2014 के लोकसभा चुनावों की तरह इस बार भी बीजेपी कोई कसर बाकी नहीं छोड़ना चाहती है. इसके लिए बीजेपी ने देश में अलग-अलग रणनीति से चुनावी बिगुल फुंक दिया है. जी हां, दोस्तों… बीजेपी के लिए इस बार लोकसभा चुनाव में विरोधी पार्टियों से कड़ी चुनौती मिल रही है. ऐसे में बीजेपी अध्यक्ष और पार्टी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह ने अपनी रणनीति तैयार कर अपने सेनापति देश के अलग-अलग हिस्सों के लिए चुन लिए हैं. साल 2019 के लोकसभा चुनावों की खातिर अपनी टीम तैयार करते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने 17 राज्यों के लिए पार्टी प्रभारियों की नियुक्ति की है. हाल ही में बीजेपी को पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में काफी बुरी हार का सामना करना पड़ा था. जिसके बाद अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोनों के मन में लोकसभा चुनाव को लेकर खौफ बैठ गया है. जनता बीजेपी से कटती जा रही है. जिसके लिए मोदी और शाह ने विरोधी पार्टियों के खिलाफ अपना मास्टर प्लान तैयार कर लिया है. जिसे देखते हुए बीजेपी ने अपने प्रभारियों की नियुक्ति भी कर डाली है. हालांकि बीजेपी ने आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए जिन प्रभारियों की नियुक्ति की है, उनके नाम काफी चौंकाने वाले हैं. लोगों में इन नेताओं की पैठ देखते हुए विरोधी पार्टियां भी चुनाव से पहले ही बीजेपी से खौफ खाने लगी है. ऐसे में आपको भी जानना जरूरी है कि आपके राज्य के लिए बीजेपी ने किसे चुनाव प्रभारी बनाया है. तो आइए दोस्तों, जानते हैं लोकसभा चुनाव के लिए बीजेपी आखिरी किन कद्दावर नेताओं को चुनाव प्रभारी बनाया है…..

देखें वीडियो-

इन नेताओं में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर राजस्थान में चुनाव अभियान संभालेंगे वहीं उनके कैबिनेट सहयोगी थावरचंद गहलोत को उत्तराखंड की जिम्मेदारी दी गयी है. पार्टी के जरिए जारी एक बयान के मुताबिक कई राज्यों के लिए सह-प्रभारियों की भी नियुक्ति की गयी है. राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण उत्तर प्रदेश में गोवर्धन झड़ापिया, दुष्यंत गौतम और नरोत्तम मिश्रा को जिम्मेदारी सौंपी गयी है. झडापिया गुजरात के नेता हैं वहीं गौतम पार्टी उपाध्यक्ष हैं. नरोत्तम मिश्रा मध्य प्रदेश से हैं. उत्तर प्रदेश में भाजपा को सपा और बसपा के संभावित गठबंधन से कठिन चुनौती मिलने की संभावना है. बयान के मुताबिक भाजपा महासचिवों भूपेंद्र यादव और अनिल जैन को बिहार और छत्तीसगढ़ का जिम्मा सौंपा गया है. राज्यसभा सदस्य वी मुरलीधरन और पार्टी सचिव देवधर राव को आंध्र प्रदेश का प्रभारी नियुक्त किया गया है. वहीं महेंद्र सिंह को असम और ओपी माथुर को गुजरात का प्रभारी बनाया गया है. भाजपा ने कई अन्य राज्यों के लिए भी प्रभारियों और सह-प्रभारियों की नियुक्ति की है. इन राज्यों में हिमाचल प्रदेश, झारखंड, मध्य प्रदेश, मणिपुर, नगालैंड, पंजाब, तेलंगाना और सिक्किम के साथ ही केंद्रशासित प्रदेश चंडीगढ़ भी शामिल है. पार्टी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी को राजस्थान का सह-प्रभारी बनाया गया है. वहीं उत्तर प्रदेश के मंत्री स्वतंत्र देव सिंह और दिल्ली भाजपा के पूर्व अध्यक्ष सतीश उपाध्याय मध्य प्रदेश के प्रभारी और सह-प्रभारी होंगे.

1 जनवरी 2019 से देश में लागू हो चुके हैं 4 बड़े नियम, हर भारतीय को जानना है बेहद जरूरी…

भाजपा महासचिव अरूण सिंह, हरियाण के मंत्री अभिमन्यु, कर्नाटक के पूर्व मंत्री अरविंद लिंबावली और उत्तराखंड के पूर्व पार्टी अध्यक्ष तीरथ सिंह रावत को ओडिशा, पंजाब, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश की जिम्मेदारी सौंपी गयी है. वहीं अभिमन्यु को चंडीगढ़ का प्रभारी बनाया गया है. पार्टी ने कहा कि प्रवक्ता नलिन कोहली को नगालैंड और मणिपुर की जिम्मेदारी सौंपी गयी है. बिहार के मंत्री मंगल पांडेय को झारखंड का प्रभारी बनाया गया है.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव में आप किस पार्टी को जीतवाना चाहते हैं?

(Visited 310 times, 1 visits today)

आपके लिए :