ATM कार्ड रखने वालों को नए साल से हो सकती है मुसीबत, जान लो वरना पछताओगे!

देश में आज हर नागरिक के पास एक बैंक अकाउंट तो जरूर होगा ही. वहीं अगर बैंक अकाउंट है तो बैंक से जुड़ा कोई एटीएम कार्ड भी ग्राहकों के पास जरूर होगा. लेकिन अब जिन ग्राहकों के पास अपने बैंक का पुराना एटीएम कार्ड है उन्हें मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है. नए साल 2019 में सरकार के जरिए एटीएम कार्ड पर कुछ ऐसा फेरबदल किया गया है जिसके कारण ग्राहकों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. ऐसे में जरूरी है कि अपने एटीएम को तुरंत जांच लिया जाए. दरअसल, बैंक के जरिए नए साल पर अपने पुराने मैजिस्ट्रिप यानी मैग्नेटिक डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड बंद कर दिए गए हैं. इनके बदले में बैंक नए जमाने के चिप वाले ईएमवी कार्ड दे रहे हैं. नए साल से अब ग्राहक अगर मैग्नेटिक डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल लेनदेन के लिए करेंगे तो वो किसी भी तरह का कोई पैसों का लेन-देन नहीं कर पाएंगे. ऐसे में ग्राहकों को नए ईएमवी कार्ड का इस्तेमाल करना ही होगा. अगर पुराना मैग्नेटिक वाला एटीएम कार्ड अगर आप एटीएम मशीनों में लगाकर पैसा निकालन की कोशिश करेंगे तो पैसा नहीं निकलेंगे. एटीएम मशीनें ही आपका ये कार्ड स्वीकार नहीं करेंगे.

वहीं अब अगर आपको नया चिप वाला एटीएम कार्ड चाहिए तो नए कार्ड के लिए आप ऑनलाइन एप्लाई कर सकते हैं या बैंकों में जाकर आप आवेदन कर नया एटीएम कार्ड ले सकते हैं. बैंक ने फरवरी 2017 से पहले के कार्ड बंद कर दिए हैं. आरबीआई के मुताबिक, मैग्‍नेटिक स्‍ट्राइप कार्ड अब पुरानी टेक्‍नोलॉजी हो चुकी हैं. ये कार्ड्स पूरी तरह सुरक्षित नहीं हैं, इसलिए इन्‍हें बंद किया जा रहा है. इनकी जगह EMV चिप कार्ड को तैयार किया गया है. यह नई टेक्नोलॉजी पर आधारित हैं और ज्यादा सुरक्षित हैं. पुराने ATM और डेबिट कार्ड के पीछे की तरफ एक काली पट्टी नजर आती थी. यही काली पट्टी मैग्नेटिक स्ट्रिप है, जिसमें आपके खाते की पूरी जानकारी दर्ज होती है. ATM में इसे डालने के बाद पिन नंबर डालते ही आप अपने खाते से पैसे निकल पाते हैं. खरीदारी के समय ऐसे कार्ड्स को स्‍वाइप किया जाता है.

लागू हुए ये 6 भयंकर नियम, जल्दी से वीडियो देख के जान लो वरना पछताओगे

मैग्‍नेटिक स्‍ट्राइप कार्ड से ट्रांजैक्‍शन के लिए कार्डहोल्‍डर के सिग्‍नेचर या पिन की जरूरत होती है. इस पर आपके अकांउट की डिटेल्‍स मौजूद होती है. इसी स्‍ट्राइप की मदद से कार्ड स्‍वाइप के वक्‍त मशीन आपके बैंक इंटरफेस से जुड़ती है और प्रोसेस आगे बढ़ता है. वहीं, चिप वाले कार्ड में सारी इन्‍फॉरमेशन चिप में मौजूद होती है. इनमें भी ट्रांजैक्‍शन के लिए पिन और सिग्‍नेचर जरूरी होते हैं. लेकिन, ईएमवी चिप कार्ड में ट्रांजैक्‍शन के वक्‍त यूजर को ऑथेंटिकेट करने के लिए एक यूनीक ट्रांजैक्‍शन कोड जनरेट होता है, जो वेरिफिकेशन को सपोर्ट करता है. ऐसा मैग्नेटिक स्ट्राइप कार्ड में नहीं होता.

वहीं चिप वाले कार्ड ज्यादा सुरक्षित हैं. इसमें डाटा चोरी होने की आशंका नहीं है. क्योंकि उपभोक्ता की डिटेल चिप में होती है. इसे कॉपी नहीं किया जा सकता. चिप वाले कार्ड में हर ट्रांजैक्‍शन के लिए एक इनक्रिप्‍टेड कोड जारी होता है. इस कोड में सेंध लगाना बहुत ही मुश्किल है. इसलिए ये कार्ड ज्‍यादा सेफ हैं. मैग्‍नेटिक स्‍ट्राइप वाले कार्ड से डाटा कॉपी करना आसान है. स्‍ट्राइप पर दिए गए डाटा को कॉपी करके नकली कार्ड बनाना काफी आसान है. यही वजह है कि इस तरह के एटीएम बंद करके आरबीआई लोगों की डिटेल्स और पैसे को सुरक्षित बना रहा है.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि आपको कौनसा बैंक ज्यादा पसंद है?

(Visited 404 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :