मिस्त्र के 5 देवी-देवता, बड़े ही अनोखे हैं इनके कारनामे!

इंसान भगवान को कई रूपों में पूजता है. अलग-अलग धर्म के अलग-अलग देवी देवता होते हैं और उन सबका रूप भी अलग होता है. दुनिया के दूसरे कोनों में रहने वाले लोगों के भगवान की अलग ही छवि है. वहीं इनमें मिस्त्र भी एक देश शामिल है. प्राचीन मिस्र का धर्म मिस्र देश का सबसे मुख्य और राजधर्म था. इसमें मूर्तिपूजक और बहुदेवतावादी धर्म था. एक छोटी अवधि के लिए इसमें एकेश्वरवाद की अवधारणा भी रही थी. ईसाई धर्म और बाद में इस्लाम के राजधर्म बनने के बाद ईसाइयों ने इस पर प्रतिबंध लगा दिया. इसके बाद ये लुप्त हो गया. वहीं मिस्त्रवासियों ने अपने देवताओं की कल्पना मनुष्य के साथ पशु-पक्षियों के रूप में भी की है. जानिए जानते हैं कुछ खास मिस्त्र के देवी-देवता के बारें में….

होरस
होरस प्राचीन मिस्र में आकाश के देवता माने जाते थे और सूर्य को होरस की शक्ति का प्रतीक माना जाता था. होरस को बाज के सर के साथ दिखाया जाता है और बाज होरस का प्रतीक है. मिस्र में होरस की पूजा 2925 ईसा पूर्व से पहले और प्राचीन मिस्र के राजघरानों की स्थापना से पहले शुरू हुई थी. होरस की पूजा मिस्र में सन् 400 तक होती रही. होरस को ओसिरिस और ईसिस का पुत्र माना जाता है. होरस और सेत के युद्ध को अच्छाई और बुराई के युद्ध के प्रतीक के रूप में देखा जाता है.

ईसिस
ईसिस मिस्र के धर्म में ओसिरिस की पत्नी और होरस कि माता मानी जाती है. वह जादू, कपट, शक्ति और ज्ञान की प्रसिद्ध मिस्र की देवी है. ईसिस का प्रिय पशु गाय था और अपने मस्तक पर वह गाय का सींग भी धारण करती थी. फिली, बेहबेत आदि मिस्र नगरों के विशाल मंदिर इसी देवी ईसिस की मूर्तियों की प्रतिष्ठा के लिए बने थे. मिस्र के समूचे देश में ईसिस पूजी गई और इनकी महिमा का प्रचार धीरे धीरे ग्रीस ओर रोम में भी हुआ.

जिंदगी में बनना है कामयाब तो जरूर दें ये टेस्ट, चुटकियों में पता चल जाएगा की कितने पानी में हैं आप!

एमर रे
मिस्त्र में सूर्य की उपासना की जाती थी, लेकिन इनको कई नामों से जाना जाता था. जैसे कि ‘रे’, ‘ऐमन’ आदि. बाद में सूर्य पूजा ‘एमर रे’ के नाम से ही हर जगह एक रूप में फेमस हो गई. रे को जीवन का देवता माना जाता है. कहा जाता है कि ‘रे’ की कल्पना सत्य, न्याय और नैतिक सर्वोच्चता के प्रतीक के रूप में की गई.

ओसिरिस
पृथ्वी, प्रकृति और नील नदी तीनों को मिलाकर एक शक्ति बनी जिसका नाम ओसिरिस नामक देवता रखा गया. ओसिरिस मिस्र के धर्म का एक प्रमुख देवता था. इनकी पत्नी ईसिस और बेटे का नाम होरस है. ओसिरिस देवता को रे देवता का पुत्र माना जाता था. जिसके कारण इनकी पूजा की जाती थी. क्योंकि यह वह देवता है जो जीवन-मृत्यु का मुल्यांकन करते थे. ओसिरिस की हत्या इसके भाई सेत ने की थी. इसलिए इसे मृत्यु और पुनर्जन्म का देवता माना जाता था.

थोथ
थोथ प्राचीन मिस्र के धर्म का एक देवता था. थोथ महत्वपूर्ण देवता था जो रे का हृदय समान था. थोथ को चंद्रमा के देवता के रूप में जाना जाता है. वहीं थोथ को मध्यस्त के रूप में भी जाना जाता है जो राक्षस और देवताओं की मध्यस्ता का काम भी करता था.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि हनुमान चालिसा किस भगवान के लिए पढ़ी जाती है.

(Visited 79 times, 1 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :