अब अगर पैकेट बंद चीज खरीदी तो आपको उम्र भर के लिए पछताना पड़ सकता है

दुनियाभर में शायद की कोई इंसान हो जिसने बाजार में तरह तरह के बंद पैकेट में मिलने वाले चिप्स ना खाएं हो. लेकिन क्या आपको पता है इनमें कुछ ऐसे चीजें मिली होती है जो जानलेवा साबित हो सकती हैं. जितना इन्हें खाने में मजा और स्वाद आता है उससे कई गुना ज्यादा ये आपके शरीर और सेहत को नुकसान पहुंचते हैं. इन्हें खाने से पल भर में आपकी सेहत बिगड़ सकती है. यहां जानिए इन पैकैटों में बंद कुछ ऐसे राज के बारे में जिन्हें जानने के बाद आप इन्हें खाना तो दूर देखने से भी तौबा कर लेंगे…

एमएसजी और ई361

ये एक ऐसा पदार्थ है जो सूअर की चर्बी से बना होता है. एमएसजी से हटकर अब इसे ईएसजी में तब्दील कर दिया गया है. पहले एमएसजी को बंद कर दिया गया था और पैकेट्स पर भी बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा जाता था “नो एमएसजी”. लेकिन कुछ कंपनी अपनी हरकतों से बाज आने वालो में से नहीं होती. ऐसे में उन्होंने इस चर्बी को फेंकने के बजाय इससे भी पैसा कमाने का उपाय खोज निकाला.

इन चीजों पर बिल्कुल भी न खर्च करें अपना पैसा, आपकी सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकते हैं…

कई देशों में हो गया है बैन

हम बात कर रहे हैं ई631 की. इसको लेकर कुछ समय पहले पाकिस्तान समेत कुछ और देशों में काफी हंगामा हुआ था. इसके बाद इस पदार्थ को कई देशों में बैन कर दिया गया है लेकिन हमारे देश में अब भी स्वाद के नाम पर पैकेट में बंद करके ये जानलेवा पदार्थ परोसे जा रहे हैं.

पैकेट पर लिखा होता है

भारत में बिकने वाले लेज़ चिप्स का पैकेट अगर आप उठा कर देखेंगे तो आपको इंग्रिडिएंट्स लिस्ट में साफ ई361 पदार्थ लिखा दिख जाएगा. ये पदार्थ सूअर की चर्बी से बना होता है. ज्यादातर इस पदर्थ का इस्तेमाल नूडल्स और चिप्स में स्वाद बढाने के लिए किया जाता है. जानकारी के लिए बता दें कि सूअर ही एकमात्र ऐसे जानवर होता है जिसमें सबसे ज्यादा चर्बी पाई जाती है.

जला दी जाती थी सूअर की चर्बी

सूअर की चर्बी से सभी दूर रहना पसंद करते थे. ऐसे में पहले तो इस चर्बी को जला दिया जाता था. लेकिन कुछ मल्टीनेशनल कंपनियों ने इसके इस्तेमाल के बारे में सोचा और इसे साबुनों को बनाने के लिए इस्तेमाल किया. कंपनियों का ये तरीका काफी सफल साबित हुआ. इसके बाद तो कुछ कंपनियों से इस चर्बी को खाने के सामानों में इस्तेमाल करना शुरू कर दिया और इसका इस्तेमाल गुप्त संकेतों की भाषा में किया जाने लगा. इसके पीछे कंपनियों का डर था कि कहीं एमएसजी की तरह ही ई361 को भी प्रतिबंधित न कर दिया जाए. गुप्त संकेतों के कारण सिर्फ कंपनियां ही जान सकती हैं कि ये पदार्थ है क्या. आम उपभोगता इस पदार्थ से अंजान होने के कारण और टेस्टी स्वाद के कारण इसका खूब इस्तेमाल करते हैं. तभी से इसे ई361 के नाम से कंपनिया खूब इस्तेमाल करती हैं.

इन पदार्थों में होती है सूअर की चर्बी

इसके मुख्य पदार्थ हैं टूथपेस्ट, शेविंग क्रीम, च्विंगम, चॉक्लेट, मिठाई, कॉर्नफ्लेक्स और बिस्किट आदि. इसके साथ ही कुछ मल्टी विटामिन गोलियों में भी सूअर की चर्बी से बना ई361 पदार्थ पाया जाता है. ऐसे में अगर आप भी सूअर की चर्बी से परहेज करते हैं तो जिन चीजों में ई361 पदार्थ होता है उससे दूरियां बना लें. इसके लिए आप ये नाश्ता और स्नैक्स अपने घर पर ही बना कर खाएं. ये फ्रेश के साथ-साथ बेहद हेल्दी भी होंगे और आपके स्वास्थ पर भी कोई गलत असर नहीं पड़ेगा.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि आप कौनसा टूथपेस्ट इस्तेमाल करते हैं?

 

(Visited 53 times, 3 visits today)

सुझाव कॉमेंट करें

About The Author

आपके लिए :