क्या चल रहा है ?
घर पर क्रिस्पी फ्रेंच फ्राइज बनाने की सीक्रेट रेसिपी | अमित शाह को कौनसी खूबियां बाकी गृहमंत्रियों से अलग बनाती है? | भारतीय सेना के जवान भी इन कुत्तों को सलाम करते हैं...जानिए क्यों | कैसे बनता है खून? शरीर में कमी होने से कैसे बढ़ाएं खून की मात्रा? | बाप रे!! मोदी-शाह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाएंगे? | ओवैसी के बारे में क्या सोचते हैं हैदराबादी मुसलमान? | कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया |

शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर?

शरणार्थी वो लोग होते हैं जो कानूनी तरीके से किसी देश में जाते हैं और इसके बाद वहां शरण लेने के लिए कानूनी प्रक्रियाओं से गुजरते हैं.

मोदी सरकार के जरिए लाए गए नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में देशभर में प्रदर्शन हो रहा है. देश की राजधानी दिल्ली समेत कई राज्यों में इसको लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है और इस विरोध प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया है, जिसकी वजह से विवाद बढ़ता जा रहा है. सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि अलीगढ़, मुंबई, पुणे तक इस विरोध की आंच फैली हुई है, वहीं प्रदर्शनकारियों की एक ही राय है कि मोदी सरकार द्वारा लाया गया ये कानून संविधान के खिलाफ है और अल्पसंख्यकों के खिलाफ माहौल बनाता है. वहीं मोदी सरकार शरणार्थियों के पक्ष में और घुसपैठियों के विरोध में हैं. जिसके चलते नागरिकता संशोधन कानून 2019 लाया गया है. लेकिन दोस्तों क्या आप जानते हैं कि शरणार्थी और घुसपैठिया में अंतर क्या है?

दोस्तों, शरणार्थी वो लोग होते हैं जो कानूनी तरीके से किसी देश में जाते हैं और इसके बाद वहां शरण लेने के लिए कानूनी प्रक्रियाओं से गुजरते हैं. ऐसे लोग वीजा के माध्यम से दूसरे देश में जाते हैं और रहते हैं. वहीं घुसपैठिए ऐसे लोग होते हैं जो अवैध तरीके से किसी देश की सीमा में चले जाते हैं और वहां रहने लग जाते हैं. ऐसे लोग वीजा के आधार पर किसी देश में नहीं जाते हैं और वहां के सुविधाओं का इस्तेमाल करते हैं.

नागरिकता कानून के तहत तीन देशों से गैर-मुस्लिम समुदाय के लोगों को भारत में रहने की इजाजत मिलती है. दरअसल, कई संगठनों ने डर जताया है कि इससे अल्पसंख्यकों के खिलाफ माहौल बनाया जा रहा है. वो इसलिए भी क्योंकि अगर अभी CAA में सिर्फ हिंदू-जैन-सिख-ईसाई-पारसी-बौद्ध को जगह दी जाती है, तो बाद में NRC के तहत इसका सीधा असर मुस्लिम समुदाय पर पड़ेगा. लेकिन अगर अब बात करें कि मुस्लिम समुदाय के लोग भारत में क्यों आते हैं तो इसके कई कारण हैं.

भारत की धरती देश दुनिया के मुसलमानों के लिए पूरी तरह से मुफीद है. भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है. यही वजह है कि यहां पर रहने वाले मुस्लिम अन्‍य मुस्लिम देशों की तुलना में बेहतर पाते हैं और दूसरे देशों के मुसलमान भी यहां आते हैं. मिडिल ईस्‍ट के देशों की बात करें तो सऊदी अरब, ईरान, इराक, सीरिया, तुर्की समेत करीब 18 देश आते हैं. इनमें से कुछ देश काफी अमीर हैं लेकिन वहां पर अशांति व्‍याप्‍त है. वहीं पाकिस्‍तान, अफगानिस्‍तान की हालत किसी से अछूती नहीं रही है. इनके अलावा अफ्रीका में मौजूद मुस्लिम राष्‍ट्र ज्‍यादातर भयंकर आतंकवाद, भूखमरी और अपराध से ग्रसित हैं. लिहाजा यहां की जनता हर रोज मरती है. इसके कारण भी मुस्लिम समुदाय के लोग भारत में आते हैं.

वहीं भारत सरकार अब घुसपैठ पर लगाम लगाने की तैयारी में है. ऐसे में सरकार के जरिए नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी लाया गया है. सरकार को घुसपैठ रोकने के लिए यह कानून लागू करने की जरूरत थी. ताकि देश के नागरिकों के संसाधन देश के नागरिक ही इस्तेमाल करें. न कि कोई घुसपैठिया इसका इस्तेमाल करे. ऐसे में सरकार अब घुसपैठियों को देश से बाहर करने की तरफ कदम बढ़ा चुकी है. दोस्तों, कमेंट कर जरूर बताएं कि मस्जिद किस धर्म से जुड़ा है.