Home Trending अनिल अंबानी हो चुके हैं कंगाल, गहने बेच कर चुका रहे हैं वकीलों की फीस

अनिल अंबानी हो चुके हैं कंगाल, गहने बेच कर चुका रहे हैं वकीलों की फीस

by Gwriter

धीरूभाई अंबानी के बेटे और मुकेश अंबानी के भाई अनिल अंबानी की हालात अब कुछ ऐसी हो चुकी है कि उनके पास अपने खर्चे के लिए भी पैसे नहीं है. अनिल अंबानी की हालात इतनी बदत्तर हो चुकी है कि उनका खर्च भी दूसरों को उठाना पड़ रहा है. वहीं अब इस बात का खुलासा हुआ है कि अनिल अंबानी अपने वकीलों की फीस भी गहनों को बेच कर चुका रहे हैं. कर्ज के बोझ तले दबे रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन अनिल अंबानी ने लंदन की कोर्ट में कहा कि वह सादा जीवन जी रहे हैं. केवल एक कार में चलते हैं और गहने बेचकर वकीलों की फीस चुका रहे हैं. चीन के तीन सरकारी बैंकों से लोन लेने के मामले में अनिल अंबानी पहली बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लंदन की हाईकोर्ट में पेश हुए थे.

दोस्तों, अनिल अंबानी ने बताया कि जनवरी से जून 2020 के बीच गहने बेचकर उन्होंने करीब 10 करोड़ रुपए जुटाए हैं. अब उनके पास अपना कुछ भी नहीं है. साथ ही अंबानी ने कहा कि उनके पास अब कोई भी कारों का काफिला नहीं है. उनके पास कभी भी रॉल्स रॉयस कार नहीं रही है. मौजूदा समय में वे केवल एक कार का इस्तेमाल करते हैं. अनिल अंबानी ने कहा कि अब परिवार ही उनका खर्च उठाता है. मां से 66 मिलियन डॉलर और बेटे से 41 मिलियन डॉलर के लोन के सवाल पर अनिल अंबानी ने कहा कि वे इस लोन की शर्तों की जानकारी नहीं दे सकते हैं. लेकिन, यह लोन गिफ्ट नहीं हैं. अंबानी ने कोर्ट में कहा कि वे कभी भारत के सबसे धनी लोगों में शुमार होते थे, लेकिन अब उनके पास एक लाख 10 हजार डॉलर की सिर्फ एक पेंटिंग है.

दरअसल, अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशन यानी आरकॉम ने चीन के तीन सरकारी बैंकों से कॉरपोरेट लोन लिया था. लेकिन, आरकॉम इस लोन का भुगतान करने में विफल हो गई थी. चीनी बैंकों का कहना था कि इस लोन के लिए अनिल अंबानी ने पर्सनल गारंटी दी थी. अनिल अंबानी से भुगतान पाने के लिए चीनी बैंकों ने लंदन की हाईकोर्ट में मुकदमा दायर किया था. इस मामले में लंदन की हाईकोर्ट ने 22 मई 2020 को अनिल अंबानी को आदेश दिया था कि वो चीनी बैंकों को 71 करोड़ डॉलर करीब 5281 करोड़ रुपए का भुगतान करें. साथ ही कानूनी लागत के तौर पर 7.5 लाख पाउंड करीब 7 करोड़ रुपए का भुगतान किया जाए. यह भुगतान 12 जून 2020 तक किया जाना था. लेकिन यह भुगतान नहीं किया गया. 15 जून को चीनी बैंकों ने अनिल अंबानी की संपत्तियों का खुलासा करने की मांग को लेकर याचिका दाखिल की. जिसके बाद अनिल अंबानी ने बताया कि उनके पास खर्च के लिए भी पैसे नहीं बचे हैं.

दोस्तों, कारोबारी अनिल अंबानी आज से करीब 15 साल पहले देश के शीर्ष 10 उद्योगपतियों में शामिल थे. 2005 में विरासत में पिता से मिली संपत्ति का बंटवारा होने के बाद मुकेश-अनिल अंबानी लगभग बराबरी पर थे. 2007 में अनिल के पास 45 अरब और मुकेश अंबानी की संपत्ति करीब 49 अरब डॉलर थी. साल 2008 में आई फोर्ब्स की सूची में अनिल अंबानी 42 अरब डॉलर के साथ दुनिया के छठे सबसे अमीर व्यक्ति थे. लेकिन इसके बाद सब खत्म होता गया. आर्थिक विशेषज्ञों का कहना है कि बंटवारे में अनिल अंबानी को जो कंपनियां मिली थीं, उन पर ध्यान न देते हुए अनिल अंबानी ने कई और सेक्टर में निवेश किया, जिससे उनकी एक के बाद एक कंपनी डूबती चली गई और अनिल अंबाली कंगाल होते गए.

Related Articles

Leave a Comment