क्या चल रहा है ?
घर पर क्रिस्पी फ्रेंच फ्राइज बनाने की सीक्रेट रेसिपी | अमित शाह को कौनसी खूबियां बाकी गृहमंत्रियों से अलग बनाती है? | भारतीय सेना के जवान भी इन कुत्तों को सलाम करते हैं...जानिए क्यों | कैसे बनता है खून? शरीर में कमी होने से कैसे बढ़ाएं खून की मात्रा? | बाप रे!! मोदी-शाह भारत को हिंदू राष्ट्र बनाएंगे? | ओवैसी के बारे में क्या सोचते हैं हैदराबादी मुसलमान? | कैसे बनाई जाती है पेंसिल? | फैक्ट्री में कैसे बनता है टोमैटो केचअप? | आलू चिप्स बनाना है आसान, ये रही पूरी प्रोसेस | नमक कैसे बनता है? समुद्र से लेकर आपके घर तक कैसे पहुंचता है? | अगर ये डॉक्युमेंट नहीं है तो NRC में आपकी नागरिकता जा सकती है | कैसी होती है डिटेंशन कैंप में जिन्दगी? | घुसपैठियों से ये भयानक काम करवाएगी मोदी सरकार? | क्या शरणार्थियों को रोजगार और घर दे पाएगी सरकार? | शरणार्थी और घुसपैठिया में क्या है अंतर? | नागरिकता कानून पर भारत उबल रहा है, कौन है इसके लिए जिम्मेदार? | जामिया में पुलिस ने क्यों की लाठीचार्ज? किस तरफ जा रहा है देश? | मोदी-शाह की जोड़ी फेल, राज्यों में लगातार मिल रही है हार | पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति कैसी है? | नागरिकता संशोधन कानून पर अमेरिका-पाकिस्तान ने भारत को चेताया |

12 साल की कड़ी मेहनत ने बनाया है यह नाम_ नवाजुद्दीन सिद्दिकी

मेरी मां मुझसे कहती थी कि बेटा कचरे के ढेर की भी जगह बदलती है तो फिर भी इंसान है तेरा भी वक्त आएगा और अब मेरा वक्त आ गया है और आज मैं यहां पर हूं यह शब्द सकते हैं जिसे मुंबई आने पर कई लोगों ने कहा था जिस काम के लिए तो मुंबई जा रहे हो वहां पर लंबे चौड़े और चिकने लोगों की जरूरत होती है तुम तो अपना टाइम वेस्ट कर रहे हो

अभी कुछ समय पहले ही उन्हें रिजेक्टेड एक्टर के तौर पर देखा जाता था सूरज रोज उगता है और रोज डूबता भी है वह भी कहां थकता है। जब हमारी जिंदगी में बुरा वक्त चल रहा होता है तो लोग कहते हैं सबर करो बुरा वक्त है गुजर जाएगा बीत जाएगा लेकिन उससे पूछो जिसके ऊपर यह वक्त गुजर रहा है हां आगे बढ़ने के लिए पीछे के दुखों को दिनों को भूलना जरूरी है लेकिन यह बात भी सच है उन दिनों में देखे गए सपनों को और यादों को कभी नहीं बोलना चाहिए क्योंकि यह सपने वही है जो आपको आगे हिम्मत देंगे और भविष्य में मैं भी आपको हिम्मत देंगे आपके साथ चलेंगे आज मैं आपसे उसके बारे में बात करने वाला हूं जिन्होंने 12 साल कड़ी मेहनत की तब जाकर उन्हें कामयाबी मिली लेकिन आज हम उनकी जिंदगी कि पीछे के 12 सालों के बारे में देखें तो उन्होंने अपने सपनों को पूरा करने के लिए हर वह कोशिश की थी हर वह efforts किए थे जो उनके सपनों के  करीब लेकर जा सके। वह अपने सपने भूले नहीं थे नाउन को छोड़ा था जब वह कुछ नहीं थे वह तब की बात है उनकी फिल्म का एक dialogue है जब तक तोड़ेंगे नहीं तब तक छोड़ेंगे नहीं ए dialogue उनकी जिंदगी से बहुत Relate करता है आज हम बात करने वाले हैं The Great Actor नवाजुद्दीन सिद्दीकी ( Nawazuddin Siddiqui ) के बारे में तो आइए फिर शुरू करते हैं आज के बाद -