X

विधानसभा चुनाव में बीजेपी को करारा झटका, अब 2019 में हार जाएगा मोदी? ये रहा सबूत

विधानसभा चुनाव में बीजेपी को करारा झटका, अब 2019 में हार जाएगा मोदी? ये रहा सबूत
पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में बीजेपी को करारा झटका लगा है. बीजेपी के हाथ से तीन बेहद अहम राज्यों की सत्ता निकल चुकी है. ये राज्य मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ हैं. इन तीनों राज्यों में अब कांग्रेस ने बीजेपी को मात दे दी है. इसके साथ ही ये 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी के लिए यह बड़ा झटका है. क्योंकि इन तीनों राज्यों में लोकसभा की अच्छी खासी सीटें हैं, ऐसे में इन राज्यों में लोकसभा सीटों का नुकसान भी बीजेपी को 2019 के लोकसभा चुनाव में हो सकता है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश की 29 सीटों में से बीजेपी ने 27 सीटें जीती थीं. इस चुनाव में कांग्रेस को सिर्फ 2 सीटें ही मिली थीं. इससे पहले 2013 के मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन किया था. इस दौरान 230 विधानसभा सीटों वाले बीजेपी ने 165 सीटों पर जीत दर्ज की थी, जबकि कांग्रेस को महज 58 सीटें ही मिली थीं. इस राज्य में बीजेपी पिछले 15 सालों से सत्ता में है. इससे पहले यहां 10 साल तक कांग्रेस की सरकार रही थी. इस दौरान 1993 से 2003 तक दिग्विजय सिंह मुख्यमंत्री रहे थे. साल 2003 में बीजेपी के सत्ता में आने पर उमा भारती मुख्यमंत्री बनीं. साल 2004 में बाबूलाल गौर बीजेपी सरकार के मुख्यमंत्री बने. हालांकि गौर भी ज्यादा दिन इस पद पर टिक न सके और बीजेपी ने 2005 में शिवराज सिंह चौहान को मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया. बेटी की शादी में मुकेश अंबानी ने गरीबों के साथ कर डाला ऐसा काम, हर कोई देखकर भौचक्का रह गया 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने राजस्थान में लोकसभा की सभी 25 सीटें जीतकर दमदार प्रदर्शन किया था. राजस्थान में साल 2013 के विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी की स्थिति काफी मजबूत रही थी. बीजेपी ने इस चुनाव में 200 सीटों में से 163 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस के खाते में महज 21 सीटें ही गई थीं. हालांकि, राजस्थान में पिछले 20 सालों से हर विधानसभा चुनाव में सत्ता बदलने का ट्रेंड चलता आ रहा है. इस राज्य में 1998 में बीजेपी के हारने के बाद कांग्रेस सत्ता में आई. कांग्रेस की इस सरकार को अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री बनाया गया. इसके बाद अगले विधानसभा चुनाव साल 2003 में बीजेपी सत्ता में आई और वसुंधरा राजे मुख्यमंत्री बनीं. साल 2008 के विधानसभा चुनाव में भी सत्ता बदलने का यह ट्रेंड जारी रहा और कांग्रेस सत्ता में आई. अशोक गहलोत फिर से राज्य के मुख्यमंत्री बने. 2014 के आम चुनाव में बीजेपी ने राज्य की 11 सीटों में से 10 पर जीत हासिल की थी. इससे पहले 2013 के छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में 90 सीटों में से बीजेपी को 49, जबकि कांग्रेस को 39 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. इस चुनाव में दोनों पार्टियों को मिली सीटों की संख्या में भले ही 10 का अंतर हो, लेकिन दोनों के वोट शेयर में अंतर 1 फीसदी से भी कम था. साल 2000 में जब मध्य प्रदेश के बंटवारे के बाद छत्तीसगढ़ नया राज्य बना था, तब मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार थी. नए राज्य छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस की सरकार बनी और इसके नेता अजित जोगी को मुख्यमंत्री बनाया गया. साल 2003 के विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी को राज्य की सत्ता हासिल हुई. बीजेपी की सरकार में रमन सिंह को मुख्यमंत्री बनाया गया. इसके बाद अब तक हुए छत्तीसगढ़ के हर विधानसभा चुनाव में साल 2003, 2008 और 2013 में बीजेपी के जीतने का क्रम जारी रहा. मध्य प्रदेश की 29, राजस्थान की 25 और छत्तीसगढ़ की 11 को मिलाकर कुल 65 लोकसभा सीटें हैं. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने इन 65 में से 62 सीटों पर जीत हासिल की थी. इस तरह इन तीनों राज्यों का बीजेपी को केंद्र की सत्ता तक पहुंचाने में अहम योगदान था. ऐसे में अगर 2019 के आम चुनाव में इन तीनों राज्यों में नतीजे बीजेपी के पक्ष में नहीं रहे तो यह उसके लिए बड़ा झटका साबित हो सकता है. दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि आप भारत के अगले प्रधानमंत्री के तौर पर किसे देखना चाहते हैं?