पाकिस्तान के खिलाफ जो मोदी नहीं कर पाए वो असदुद्दीन ओवैसी ने कर दिखाया

बॉलीवुड एक्टर नसीरुद्दीन शाह के बुलंदशहर हिंसा पर दिए बयान के बाद पाकिस्तान ने इस मामले पर चुप्पी तोड़ी. पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा था कि पाकिस्तान दिखाएगा कि नरेंद्र मोदी सरकार अल्पसंख्यकों के साथ कैसा बर्ताव करती है. इमरान खान ने लाहौर में एक समारोह के दौरान कहा था कि भारत में भी लोग कहते हैं कि अल्पसंख्यकों के साथ अन्य नागरिकों जैसा बर्ताव नहीं किया जाता है. पाकिस्तान सरकार देश में रह रहे अल्पसंख्यकों को उनका हक दिलाने के लिए कदम उठा रही है. इमरान खान ने कहा कि न्याय मिलने में देरी से गुस्सा बढ़ता है और बांग्लादेश का गठन इसका उदाहरण है. इमरान खान ने कहा कि मोहम्मद अली जिन्ना जानते थे कि भारत में मुस्लिमों के लिए असहिष्णुता का वातावरण बनेगा इसलिए उन्होंने अलग देश पाकिस्तान बनाने की मांग की थी. इस पर नसीरुद्दीन शाह ने पाकिस्तान पर पलटवार करते हुए कहा कि इमरान खान पहले अपना देश संभालें और ऐसे मामलों से दूर रहें, जिनसे उनका कोई मतलब नहीं है. वहीं अब पाकिस्तानी पीएम के बयान के विरोध में ओवैसी भी सामने आ गए हैं. इसके साथ ही ओवैसी का बयान सुन खुद मोदी भी हैरानी में हैं.

देखें वीडियो

हैदराबाद से सांसद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को दो टूक जवाब दिया है. उन्होंने इमरान खान के भारत पर दिए बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए एक ट्वीट किया. ओवैसी ने ट्वीट करके कहा कि पाकिस्तान के संविधान के मुताबिक, केवल एक मुस्लिम ही राष्ट्रपति बनने के काबिल है. भारत ने वंचित तबकों से आने वाले कई राष्ट्रपतियों को देखा है. खान साहब के लिए यह सही वक्त है कि वह हमसे समावेशी राजनीति और अल्पसंख्यक अधिकारों के बारे में कुछ सीखें.

बता दें कि भारत में अल्पसंख्यक अधिकारों को लेकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक बयान दिया था, जिसपर असदुद्दीन ओवैसी ने उन्हें आईना दिखाया है. इमरान खान ने अभिनेता नसीरुद्दीन शाह के बयान की तरफ इशारा करके कहा था कि भारत में अल्पसंख्यकों को समान दर्जा नहीं मिलता है. इमरान खान ने ये बयान पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की सरकार के 100 दिन पूरे होने के मौके पर दिया. उन्होंने नसीरुद्दीन शाह के बयान की आड़ में भारत पर हमला बोला और कहा था कि अब तो भारत में भी लोग कहने लगे हैं कि वहां अल्पसंख्यकों के साथ समान व्यवहार नहीं होता. वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिखाएंगे कि अल्पसंख्यकों के साथ कैसा बर्ताव किया जाता है.

मोदी ने दिया देश को धोखा? बीजेपी सरकार में भ्रष्टाचारी के नाम का हुआ खुलासा, देश में मचा हड़कंप!

इमरान खान के इस बयान पर नसीरुद्दीन शाह ने भी जवाब दिया था. नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि मुझे लगता है कि मिस्टर खान को सिर्फ उन मुद्दों पर ही बात करनी चाहिए जो उनके देश से संबंधित हैं, न कि उन मुद्दों पर जिनका उनसे वास्ता ही नहीं है. हम पिछले 70 सालों से एक लोकतंत्र हैं और जानते हैं कि हमें अपनी देखभाल कैसे करनी है. बता दें कि हाल ही में उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गोहत्या की अफवाह पर भड़की हिंसा पर नसीरुद्दीन शाह ने कहा था कि हम देख रहे हैं कि एक पुलिस इंस्पेक्टर की मौत से ज्यादा अहमियत गाय की मौत को दी जा रही है. मुझे ऐसे में अपने बच्चों के बारे में सोचकर चिंता होती है. इसी के बाद नसीरुद्दीन शाह पर विवाद छिड़ा. इसी बयान की तर्ज पर पाक प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी भारत पर टिप्पणी की थी.

दोस्तों, कमेंट बॉक्स में कमेंट कर जरूर बताएं कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की टिप्पणी कहां तक जायज है?

(Visited 8447 times, 3 visits today)

आपके लिए :