क्या चल रहा है ?
ट्रंप भी खड़े होकर ताली बजाने लगे - आखिर मोदी ने ऐसा क्या बोला - Howdy Modi | टूरिज्म के लिहाज से बिहार का गया क्यों बन चुका है इतना खास? | घर बैठकर आसानी से कैसे बुक करें फ्लाइट टिकट?... | घर बैठकर ऑनलाइन कैसे बुक करें रेल टिकट? | जानिए 2019 Honda Activa 125 कैसी है? | BCA-MCA करने से क्या फायदा है? | कुछ लोग बाएं हाथ का इस्तेमाल क्यों करते हैं? | क्या है परिवहन से जुड़ी हाइपरलूप तकनीक... | बॉलीवुड को मिली दूसरी लता मंगेशकर, गरीबी में कुछ ऐसी थी रानू मंडल की जिंदगी | क्या है 5G तकनीक? कैसे करती है काम? | सिर्फ 5 लाख रुपये से CCD के मालिक सिद्धार्थ ने कैसे खड़ा किया अरबों का कारोबार? | पाकिस्तानी दुश्मन के हाथ की घड़ी का वक्त भी देख लेगा भारत का ये सैटेलाइट | अनुच्छेद 370: अमित शाह ने इस बड़े कारण से लद्दाख को कश्मीर से अलग किया? | प्रधानमंत्री 15 अगस्त को लाल किले पर ही क्यों फहराते हैं तिरंगा? | भारत को 15 अगस्त 1947 की रात 12 बजे ही आजादी क्यों मिली? | पाकिस्तान 15 अगस्त को आजाद हुआ लेकिन 14 अगस्त का क्यों मनाता है स्वतंत्रता दिवस? | बिहार के रवीश कुमार ने नरेंद्र मोदी की बोलती की बंद! मिला रेमन मैग्सेसे अवार्ड | चांद पर एलियन का पता लगाएगा भारत का चंद्रयान-2? | चंद्रयान-2: अगर भारत को चांद पर मिली ये चीज तो दुनिया पर करेगा राज | लिफ्ट से चांद पर पहुंचना होगा आसान, चंद्रयान जैसे मिशन की भी जरूरत नहीं? |

फिर कश्मीर का राग अलापने पर भारत ने इमरान खान को दिया करारा जवाब - कहा पाक पीएम को नहीं आता अंतरराष्ट्रीय संबंध निभाना

कश्मीर मुद्दे पर पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान का रोना कभी बंद नहीं होने वाला है। इसका सबूत वो वक़्त- वक़्त पर देते भी रहता है। कुछ दिनों पहले ही संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने दिये एक बयान के कारण पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान फिर से सुर्खियों में आ चुके है। दरअसल, इमरान खान ने कहा था कि कश्मीर यानि Pakistan occupied Kashmir (POK) के युवा LOC की तरफ जाना चाहते हैं। लेकिन उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक हो जाने तक उन्हें रुकने को कहा है।

दोस्तों, कश्मीर मुद्दे पर पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान का रोना कभी बंद नहीं होने वाला है। इसका सबूत वो वक़्त- वक़्त पर देते भी रहता है। कुछ दिनों पहले ही संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने दिये एक बयान के कारण पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान फिर से सुर्खियों में आ चुके है। दरअसल, इमरान खान ने कहा था कि कश्मीर यानि Pakistan occupied Kashmir (POK) के युवा LOC की तरफ जाना चाहते हैं। लेकिन उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक हो जाने तक उन्हें रुकने को कहा है।

जिहाद के नाम पर सामने आए इस भड़काऊ भाषण पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने उन्हें आड़े हाथ लिया। दोस्तों, बता दें कि मुद्दे पर अपनी गंभीरता दिखाते हुए रवीश कुमार ने साफ कह दिया कि “मैं समझता हूं कि उन्हें अंतरराष्ट्रीय संबंधों को निभाना आता ही नहीं है”। उन्होंने यह भी कहा कि इस तरह का भड़काऊ और गैर-जिम्मेदाराना बयान देकर पाक सरकार ने अपने असली चेहरे को दिखा दिया है।

बता दें कि इमरान खान ने विश्व स्तर पर आतंकी घोषित हाफिज सईद के बैंक खातों पर लगी रोक को हटाने की मांग की थी। इस मुद्दे पर भी बात करते हुए प्रवक्ता रवीश ने कह दिया कि ऐसा करके पाकिस्तान ने अपने दोहरे चरित्र को उजागर किया है। एक तरफ पाकिस्तान हाफिज सईद के बैंक खातों को लेकर चिंता जाहिर करता है। तो दूसरी तरफ आतंकियों पर कड़े कदम उठाने के खोखले बयान देता है। जबकि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आज हर कोई जान चुका है कि पाकिस्तान सरकार ने अपनी ही जमीन पर कई आतंकियों को पनाह दे रखी है। जिसे वो कभी स्वीकार भी नहीं करता है।

इमरान खान का अब इस तरह का बयान कि उन्होंने POK के युवाओं को LOC की तरफ जाने से रोक रखा है, यानि वो सभी जिहाद के नाम पर उस तरफ जाने को उतारू है। ऐसी बातें और बयान दोनों देशों के बीच रिश्तों को और भी खराब करते है। खासतौर पर कश्मीर से धारा 370 हटने के बाद से पाकिस्तान काफी परेशान चल रहा है। जो कश्मीर को अपनी निजी संपत्ति समझ बैठा है। पर भारत वक़्त- वक़्त पर उसे आईना दिखाते आया है। अगस्त महीने की ही बात की जाए तो पाकिस्तान ने अपने 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी कश्मीर का राग अलापा था।

 

 

दोस्तों, अगर आपको याद हो तो उस मौके पर पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने अपने देश की आवाम से अपील की थी कि सोशल मीडिया के जरिए आप भारत की भयानक चीजें दुनिया के सामने लाएं। दुनिया को वो फोटो दिखाई जाएं, जो कश्मीर से निकल रही हों। ये हमारे लिए सबसे बड़ी जंग है”। भारत के खिलाफ जंग और नफरत की बातें करने वाले पाकिस्तान को शायद याद रखने की ज़रूरत है कि अभी तक वो कितनी जंग जीता चुका है। उसके बाद ही वो आगे की तैयारी करे।

उस समय पाकिस्तानी राष्ट्रपति ने बात कही थी कि वो कश्मीरियों पर हो रहे जुल्मों के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) से जांच की मांग करेंगे, और इस बार पाकिस्तान प्रधानमंत्री “संयुक्त राष्ट्र महासभा” के सामने अपना नया बयान दें गए। जिसपर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने उनपर निशाना साध दिया। अब देखना होगा कि कश्मीर को अपनी property समझने वाला पाकिस्तान अगला कदम क्या उठाएगा, जोकि धीरे-धीरे अंतर्राष्ट्रीय मंच पर अकेला पड़ते जा रहा है।

**********